महिलाओं को सम्मान के साथ आगे लाने यहां पुलिस की पहल, दरअसल ग्रामीण क्षेत्रों में चुने हुए महिला जनप्रतिनिधि का पति ही करते हैं सब काम-काज

0
webmorcha.com
बुंदेली चौकी

बुंदेली पुलिस का अभिनव पहल, सरपंच पति बताकर चौकी में प्रवेश वर्जित

महासमुंद: सरपंच पतियों के लिए कड़ा संदेश, सरपंच पति बताकर चौकी में प्रवेश वर्जित

महासमुंद। महिलाओं को ग्रामीण अपना मताधिकार देकर जनप्रतिनिधि तो चुनते हैं। लेकिन, बाद में पूरे काम-काज का जिम्मा या तो उनके पति देखते हैं या फिर कोई दूसरा प्रतिनिधि। ऐसे में जिस मकसद से महिला को समाज में खुलकर आने की बात सिर्फ कागजों में रह जाती है। इसी मकसद को लेकर महासमुंद जिले के बुंदेली चौकी प्रभारी विकाश शर्मा ने पहल करते हुए चौकी में एक नोटिश बोर्ड चिपकवाया है। जिसमें लिखा है कृपया सरपंच पति बताकर चौकी में प्रवेश न करें। लोगों की समस्या के लिए चुने हुए जनप्रतिनिधि ही प्रवेश करें। इस नोटिश बोर्ड के बाद आस-पास के पंचायतों में हडकंप हैं। जहां पर अधिकांश पंचायतों में महिला सरपंच पतियों का दबदबा है।

यहां पढ़ें: बुंदेली पुलिस की बड़ी कार्रवाई: पांच पेटी बीयर के साथ भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब जब्त

चौकी प्रभारी विकास शर्मा ने बताया कि बहुत बार ऐसे मौके आते हैं,  जब लोग खुद को एसपी (सरपंच पति) बताते हैं।  और एसपी का अर्थ पूछने पर सरपंच पति कहते हैं, चुने हुए महिलाओं को आगे आने का मौका मिले, इसलिए ऐसा किया गया है, उन्होंने निवेदन किया कि लोगों की समस्याओं के लिए चुने हुए जनप्रतिनिधि ही खुद आगे आएं।

जिले में 545 ग्राम पंचायत हैं, जिसमें 50 फीसदी के करीब पंचायतों में महिला सरपंच हैं। जिले के बहुत ही कम पंचायतों में ही महिला सरपंच खुद आगे आकर काम कर रही हो। बुंदेली चौकी की ये सराहनीय कदम है, महिलाओं और ग्राम पंचायतों के ग्रामीणों को उनके भरोसे का सम्मान दिलाने का।

यहां पढ़ेंइन पांच राशि वाले जातक के लिए बेहतर समय, पढ़ें राशिफल

 

webmorcha.com
बुंदेली चौकी
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here