मेरा गांव मेरा शहर

नवभारत समूह के डायरेक्टर संदीप महेश्वरी के खिलाफ 420 का मामला दर्ज

निवेशक ने नवभारत समूह में 22 साल पहले अपनी बेटियों के नाम से किया था निवेश

महासमुंद। सरायपाली थाना अंतर्गत लोगों से धोखाधड़ी करने वाले नवभारत समूह के डायरेक्टर संदीप महेश्वरी के खिलाफ 420 का मामला पुलिस ने दर्ज किया है। बता दें कि यहां के लोगों से कई योजनाओं के नाम पर राशि दोगुना और चौगुना करने के लिए निवेश करवाया था। लेकिन समय बीतने के बाद निवेशकों को राशि नहीं दी गई। निवेशकों ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था। इसके अलावा जबलपुर हाईकोर्ट में राशि वापस दिलाने याचिका दायर किया था।  इसके बाद भी राशि नहीं लौटाई गई। अब इस मामले सराईपाली ने अपराध दर्ज किया है।

यह पढ़िए : पुलिस ने एफआई में क्या लिखा

  • प्रार्थी इमरान मेमन पिता स्व. अब्दूल मजीद मेमन (37) निवासी अग्रवाल पेट्रोल पंप के पास सरायपाली के द्वारा एक लिखित आवेदन में कहा है कि एन.बी. प्लान्टेशन लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर संदीप महेश्वरी के द्वारा बम्पर योजना, WINDFALL योजना, OPTIONE योजना, OPTION A योजना के तहत रकम 43800 रुपए जमा करवाकर दोगुना-चौगुना एवं कई गुना रकम देने का वादा कर निवेश करवाया था।

12 बांडों में 44 हजार रुपए का निवेश

  • मेरे स्वर्गीय पिता अब्दुल मजीद मेमन के नवभारत समूह की एक संस्था ENBEE PLANTATIONS LTD. के निवेश योजनाओं में अपना पैसा निवेश किया था, सन् 1996 में नवभारत प्रकाशन समूह ने अपनी एक संस्था के नाम पर निवेश योजनाएं निकाली थी, जिसमें कुल 12 बाण्डों में नगद 43,800 रुपए निवेश किया था।
  • सभी बाण्डों की अवधि पूर्ण होने के बाद 11 लाख रुपए से अधिक की राशि ब्याज सहित वापस देने का वादा किया गया था।
  • उक्त सभी बाण्डों में योजना का नाम तथा FOLIO No. व BOND CERTIFICATE नंबर दर्ज है। उक्त बाण्डों में Managing Director के नाम व हस्ताक्षर दर्ज है।
  • नवभारत समूह के नाम पर अटूट विश्वास करते हुए मेरे पिता स्व. अब्दुल मजीद मेमन ने अलग-अलग 4 बाण्ड स्कीमों में पैसा निवेश किया।
  • ENBEE PLANTATIONS LTD ने अलग-अलग स्कीमों के लिए BANK D.D. से पैसा लिया और अलग-अलग स्कीमों के तहत एडवांस चेक जारी कर निवेशकों को अपने जाल में फंसाया।
  • प्रधानमंत्री को लिखा था पत्र

  • ENBEE PLANTATIONS LTD ने सन् 1996 के कुछ वर्ष के अंदर अपनी सारी योजनाएं तथा कंपनी बंद कर दी गई।
  • एडंवास चेक को रद्द करते हुए 1 मार्च 2000 को सभी निवेशकों को डिवेंचर सर्टिफिकेट जारी कर पुनर्खरीद योजना के अंतर्गत मूल जमा राशि वापस देने का वादा किया, लेकिन कुछ निवेशकों ने असंतुष्ट होकर प्रधानमंत्री से कंपनी के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए पत्र लिखा था।

हाईकोर्ट के आदेश को डायरेक्टर ने दिखाया था अंगूठा

  • कुछ निवेशकों ने अविभाजित मध्यप्रदेश के जबलपुर हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी, हाईकोर्ट जबलपुर (म.प्र.) ने 2004 में कंपनी एक्ट के तहत जमा राशि 3 किश्तो में वापस दिए जाने का आदेश दिया था, लेकिन हाईकोर्ट के फैसले की अवहेलना करते हुए 2004 के बाद 13 वर्षो के बाद भी नवभारत समूह के ENBEE PLANTATIONS LTD ने अब्दूल मजीद तथा उनके द्वारा अपने पुत्र-पुत्रियों के नाम लिया हुआ बाण्ड का पैसा वापस नहीं दिया है।
  • मेरे पिता ने अपने स्वंय के नाम पर बम्पर प्लान स्कीम में 3000 रुपए के अलग-अलग 5 बाण्ड खरीदे थे, जिसमें 20 वर्ष की अवधि 2017 में पूर्ण होने पर प्रत्येक बाण्ड में कुल 36 गुना ज्यादा पैसा वापस देने का वादा किया था।
  • एडवांस चेक प्रति 5 वर्ष के अंतराल के हिसाब से सन् 2002 के लिए 6000 रुपए का एडवांस चेक, 2007 का 12000 का एडवांस चेक, 2012 में 18000 रुपए तथा 2017 अप्रैल का 1,08000 रुपए का एडवांस चेक जारी कर दिया था।
  • बम्पर योजना में 3000 रुपए निवेश करने पर कुल 20 वर्षों की अवधि पूर्ण करने पर कुल 1,44000 रुपए वापस देने का वादा किया था।

निवेशक ने खरीदे थे चार बाण्ड

  • मेरे पिता स्व. अब्दुल मजीद मेमन ने WINDFALL प्लान के तहत् स्वयं अपने नाम पर 2100 का चार बाण्ड खरीदा था, जो 30 दिसंबर 1996 को बाण्ड प्राप्त किया था। जिसकी अवधि 9 वर्षो के बाद 10 गुना पैसा वापस दिए जाने की स्कीम थी, इसमें मेरे पिता को 2100 के 4 बाण्ड की 8400 रुपए के एवज से सन् 2005 को 84000 रुपए प्राप्त होना था।
  • कंपनी ने एडवांस चेक 84000 रुपए कर दिया था। इसी योजना में मेरे पिता ने अपनी 3 पुत्री शाबाना बानो, परवीना बानो एवं अंजुम बानो के नाम पर 2100-2100-2100 रुपए के 3 बाण्ड खरीदा था, जिसके एवज में कंपनी ने 21000-21000-21000 के 3 चेक जारी कर दिए थे तथा मेरे नाम पर भी WINDFALL योजना में 2100 रुपए निवेश किया था, जो कि 15-12-2005 के लिए एडवांस चेक 21000 रुपए का जारी किया था।
  • मेरे पिता ने स्वयं अपने अब्दुल मजीद मेमन के नाम पर अन्य एक स्कीम के तहत FOLIO NO. 018997 बाण्ड सर्टिफिकेट नं. NB 027488 OPTIONE स्कीम में 6000 रूपये का बाण्ड लिया था।
  • योजना के तहत कंपनी लगातार 17 वर्षो तक 1200 रुपए का बोनस देती तथा 18 वर्षो की अवधि पूर्ण हाने पर 2,19,600 (दो लाख उन्नीस हजार छ: सौ रुपए) वापस देती।
  • वहीं अन्य योजना के तहत के OPTION A के FOLIO NO.0225577-BOND CERTIFICATE No. NB 035960 के स्कीम में मेरे पिता ने मेरे (इमरान खान मेमन) के नाम पर 6000 रुपए का बाण्ड खरीदा था।
  • सन् 1996 के 6 वर्ष पूर्ण होने तक प्रति वर्ष 1200 रुपए का बोनस तथा 2002 में 6 वर्ष की अवधि पूर्ण होने के बाद 12000 रुपए वापस देने का योजना निकाला था।
  • मेरे पिता अब्दुल मजीद ले बम्पर प्लान के तहत स्वयं अपने नाम पर 5 बाण्ड खरीदे थे, जिसकी राशि बैंक डी.डी. से कंपनी को भेजी गई थी।

प्रार्थी ने दस्तावेज सहित किया शिकायत

यहां पर यह भी पढ़िए http://बेटी के प्रेमी का हत्या कर माता पिता ने ऐसे लगाया ठिकाना

  • (1) D.D. No. 025448 CBI BHOPAL, (2) D.D. No. 025499 CBI BHOPAL,(3) D.D. No. 025450 CBI BHOPAL, (4) D.D. No. 025451 CBI BHOPAL, (5) D.D. No. 025452 CBI BHOPAL, तथा WINDFALL प्लान में स्वयं (अब्दुल मजीद) के नाम पर 2100 रुपए का 4 बाण्ड खरीदा था, जिसका 8400 रुपए का डी.डी. क्रं. 023575 (सेन्ट्रल बैंक शाखा भोपाल) है।
    अपनी 3 पुत्रियों के नाम पर WINDFALL प्लान 2100-2100-2100 रुपए का बाण्ड खरीदा था।
  • इसमें शबाना बानो डी.डी. क्रमांक 023579, परवीन बानो डी.डी. क्रमांक 023578 एवं अंजुम बानो डी.डी. क्रमांक 023577 तथा मेरे स्वंय इमरान खान मेमन के नाम पर विन्डफाल योजना के तहत 1 बाण्ड 2100 रुपए का खरीद था, जिसका डी.डी. क्रमांक 023576 है।
  • प्रार्थी ने बताया कि एन.बी. प्लान्टेशन लिमिटेड में पिता स्व. अब्दुल मजीद मेमन का कुल राशि 43800 रुपए जमा किया गया था, जिसे आज तक वापस नहीं कर कंपनी को बंद कर धोखाधड़ी किया गया है।
  • प्रार्थी ने एनबी प्लांटेशन लि. कंपनी एवं डायरेक्टर संदीप महेश्वरी के विरूद्ध धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर न्याय दिलाने की मांग की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button