5 पेड़ जो देते हैं सबसे अधिक ऑक्सीजन, जिनसे आज ही बना लें दोस्ती

पेड़ द्वारा बनाने वाली ऑक्सीजन के कारण ही हम ज़िंदा रहते हैं। ये जानते हैं कि कौन से पेड़ सबसे और कितने समय तक ऑक्सीजन बनाते हैं। जानिए उन्हीं पेड़ों के बारे में जो अधिक ऑक्सीजन छोड़ते हैं। वर्तमान में प्रदूषण ने गंभीर समस्या के रूप में सामने खडी हो गई है। हर कोई इससे बचने के तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं। आज हम आपको बताने जा रहें हैं उन पांच पेड़-पौधों के बारे में जिन्हें अपने आस-पास लगाकर आप प्रदूषण से आसानी से राहत पा सकते है। ये पेड़ एक दिन में 20 घंटों से अधिक समय तक ऑक्सीजन का निर्माण करते हैं । पेड़-पौधे जहां हरियाली बढ़ाते हैं वहीं हमें धूप से भी बचाते हैं। यदि पेड़ न हो तो जीवन असंभव है। काश? अपहले हम सचेत हो गए होते तो आज जो दिन देखना पड़ रहा है वो न होता।

पीपल

webmorcha.com
नीम, बरगद, तुलसी- पीपल

पीपल- पीपल के पेड़ के साथ कई धार्मिक भावनाएं जुड़ी होती है। पीपल के पेड़ का विस्तार, फैलाव और ऊंचाई बहुत अधिक होती है। बताया जाता है कि पीपल का पेड़ ही रात में ऑक्सीजन देता है। पीपल का पेड़ और पेड़ों के मुकाबले ज्यादा ऑक्सीजन देता है और दिन में 22 घंटे से भी ज्यादा समय तक ऑक्सीजन देता है।

समुद्री पौधे (मरीन प्लांट्स):

webmorcha.com
समुद्री पौधे (मरीन प्लांट्स):

खबरों के अनुसार वातावरण में मौजूद 70 से 80 फीसदी ऑक्सीजन इन पौधे की ओर से ही बनाई जाती है। जमीन का अधिकांश हिस्सा समुद्री होने की वजह से ये पौधे पृथ्वी को सबसे ज्यादा ऑक्सीजन देते हैं। ये पौधे जमीनी पौधों से ज्यादा ऑक्सीजन बनाते हैं।

पत्तेदार पौधे-

webmorcha.com
पत्तेदार पौधे-

ऑक्सीजन बनाने का काम पेड़ की पत्तियां करती हैं। बताया जाता है कि पत्तियां एक घंटे में 5 मिलीलीटर ऑक्सीजन बनाते हैं। इसलिए जिस पेड़ में ज्यादा पत्तियां होती हैं वो पेड़ सबसे ज्यादा ऑक्सीजन बनाता है।

webmorcha.com
बांस का पेड़-

 

बांस का पेड़ सबसे तेज बढ़ने वाला पेड़ या घास है। इसकी बढ़ने की स्पीड बहुत तेज होती है। बांस का पेड़ हवा को फ्रेश करने के काम में भी आता है। बताया जाता है कि बांस का पेड़ अन्य पेड़ों के मुकाबले 30 फीसदी अधिक ऑक्सीजन छोड़ता है।

webmorcha.com
नीम, बरगद, तुलसी-

 

पीपल के पेड़ की तरह नीम, बरगद और तुलसी के पेड़ भी अधिक मात्रा में ऑक्सीजन देते हैं। नीम, बरगद, तुलसी के पेड़ एक दिन में 20 घंटों से ज्यादा समय तक ऑक्सीजन का निर्माण करते हैं।

किसान परिवार में 35 साल बाद जन्म लिया बेटी, स्वागत ऐसी कि अस्पताल से हेलीकॉप्टर से लाया घर

तेजी से बढ़ती जनसंख्या और शहरीकरण के कारण लगातार पेड़ो को काटा जा रहा है। अगर पेड़ों का अस्तित्व खत्म हो जाएगा तो वो दिन दूर नहीं होगा जब मनुष्य का वजूद भी कतम हो जाएगा। इसलिए अगर जरूरत पड़ने पर आप अगर एक पेड़ काटते भी हैं तो उसके बदले 10 पेड़ लगाएं भी ताकि आपकी आप खुद और आपकी आने वाली पीढ़ियों को ऑक्सीजन के लिए मास्क की जरूरत न पड़े।