अब प्रशासन का पूरा फोकस जिला मुख्यालय महासमुन्द में सौ फीसदी टीकाकरण की ओर

0
37

महासमुन्द। जिला मुख्यालय महासमुन्द को छोड़कर जिले के सभी नगरीय क्षेत्र सरायपाली, पिथौरा, बसना, तुमगाॅव और बागबाहरा में सभी पात्र लोगों को शत्-प्रतिशत् कोविड का टीका लग गया है। ज़िले का बागबाहरा पाॅचवा शहरी क्षेत्र है जहाँ शत-प्रतिशत लोगों का वैक्सीन लगाई गई है। महामसुन्द नगरीय क्षेत्र में 44650 सभी पात्र व्यक्तियों का टीकाकरण किया जाना है। इनमें से  35802 लोगों को कोविड का टीकाकरण किया जा चुका है। वर्तमान में 10848 लोगों का टीकाकरण किया जाना शेष है। जिला प्रशासन पूरी गम्भीरता के साथ पूरा फोकस जिला मुख्यालय महासमुन्द के लोगों का सौ फीसदी टीकाकरण कराने की ओर है। अनेक प्रयासों के बावजूद यहां अपेक्षित सफलता नहीं मिल पा रही है। कलेक्टर डोमन सिंह ने एक बार फिर पात्र आम नागरिकों से वैक्सीन लगवाने की अपील की है।

http://Tokyo Olympics, Golf: अदिति अशोक ने एक शॉट से गंवाया मेडल, फिर भी ओलंपिक में बना गईं इतिहास

उन्होंने जनप्रतिनिधि, समाज सेवी संगठन, व्यापारी और जनता से अपील की है कि वे लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि महासमुन्द जिला मुख्यालय होने के कारण आस-पास के गाॅव के लोग एवं अन्य लोग भी अपने दैनिक जरूरी चीजों के लिए एवं अन्य कार्य के लिए जिला मुख्यालय आते-जाते है। अतः यहां के लोगों को शत्-प्रतिशत् टीकाकरण करना हमारा शुरू से ही लक्ष्य रहा है। कलेक्टर डोमन सिंह ने स्वास्थ्य विभाग एवं संबंधित अधिकारियों को कहा है कि महासमुन्द नगरीय क्षेत्र के शत्-प्रतिशत पात्र लोगों को भी जल्द से जल्द वैक्सीन लगें, इसकी कार्ययोजना बनायी जाए। उन्होंने महासमुन्द में टीकाकरण की प्रगति कम होने पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि कोरोना की तीसरी लहर को नियंत्रित करने में टीकाकरण बहुत जरूरी है।

http://Gold Price Today: 5 दिन में 450 रुपये सस्ता हुआ सोना, जानें आज कितने गिरे 10 ग्राम गोल्ड के रेट

इसके लिए छूटे हुए लोगों को टीकाकरण कराने के लिए अधिक से अधिक प्रेरित करें। जिला मुख्यालय महासमुन्द में ग्रामीण और आस-पास के लोग व्यापार, व्यवसाय तथा विभिन्न जरूरी आवश्यकताओं के लिए शहर की ओर रूख करते है। इसलिए शहरी क्षेत्र के सभी पात्र लोगों को कोविड का टीका लगे ताकि ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले लोग जिन्हें टीका नहीं लगा है, उनका स्वास्थ्य सुरक्षित रहें। ताकि वे अपने परिजनों और आस-पास के लोगों को संक्रमित होने से बचा सकें। टीकाकरण कराने के लिए लोगों को जनप्रतिनिधियों, समाज सेवी संगठनों, जिला प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी सहित अन्य गणमान्य नागरिकों तथा विभिन्न प्रचार माध्यमों से जागरूक किया जा रहा है। इसके अलावा डोर-टू-डोर जाकर भी लोगों को समझाया जा रहा है।