अफगानिस्तान के NSA ने पाक को बताया चकलाघर PAK विदेश मंत्री ने कहा-खौल रहा खून

इस्लामाबाद। अफगानिस्तान (Afghanistan) से अमेरिकी और नाटो फौजों की वापसी होते देख पाकिस्तान (Pakistan) वहां पर अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिशों में जुटा हुआ है. इसी बीच अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) ने पाकिस्तान को उसकी औकात याद दिलाते हुए कुछ ऐसा कह दिया है. जिससे वहां के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) भड़क उठे हैं.

हमदुल्लाह मोहिब हैं अफगानिस्तान के NSA

‘वॉइस ऑफ़ अमेरिका’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार  (NSA) हमदुल्लाह मोहिब (Hamdullah Mohib) हैं. वे मई की शुरुआत में अफगानिस्तान के नंगरहार सूबे के दौरे पर गए थे. उस दौरान उन्होंने पाकिस्तान (Pakistan) को ‘ब्रोदल्स हाउस’ यानी ‘चकलाघर’ (Chaklaghar) कहा था. उनकी इस टिप्पणी पर अब पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी तमतमा उठे हैं. उन्होंने अफगानिस्तान को NSA को अपनी भाषा शैली सुधार लेने या अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है.

पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार, मुल्तान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए शाह महमूद क़ुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) ने कहा, “अफ़ग़ानिस्तान (Afghanistan) के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार कान खोलकर मेरी बात सुन लो. यदि तुम ऐसी जुबान का इस्तेमाल करने से बाज़ नहीं आए तो कोई पाकिस्तानी न तुम से हाथ मिलाएगा और न ही तुम से बात करेगा.’ कुरैशी ने दावा किया कि पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के चरमपंथ की वजह से जान-माल की बड़ी क़ीमत चुकाई है.

अफगानिस्तानी NSA पर भड़के कुरैशी

क़ुरैशी ने अफ़ग़ानिस्तान के NSA पर तमतमाते हुए कहा, ‘जब से मैंने नंगरहार में तुम्हारी तक़रीर सुनी है, मेरा तो ख़ून खौल रहा है. डंके की चोट पर कह रहा हूँ, अपना रवैया सुधार लो. तुम को इस बात पर शर्म आनी चाहिए.’ उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान एनएसए अमन की राह में बाधाएं खड़ी कर रहे हैं. वे इसमें सुधार करने के बजाय हालात बिगाड़ रहे हैं. इसलिए अफ़ग़ानिस्तान और उसके अमनपसंद समझदार नागरिकों को उनसे अपील करनी चाहिए कि वे अपना बर्ताव ठीक कर लें.

क़ुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) ने कहा कि पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री और सेना-प्रमुख से लेकर विदेश मंत्री तक अमन के लिए काबुल का दौरा करते रहे हैं. इसके बावजूद वहां के NSA पाकिस्तान को ‘चकलाघर’ (Chaklaghar) कहते हैं. उन्होंने कहा, ‘मैं ये बात अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से भी कहना चाहूँगा कि अगर यही बर्ताव जारी रहता है तो ये आदमी जो ख़ुद को अफ़ग़ानिस्तान का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार कहता है, तो ये अमन का माहौल बिगाड़ने वाला काम कर रहा है.’

पाकिस्तानी विदेश मंत्री(Shah Mahmood Qureshi)  की इन तीखी टिप्पणियों को अफगानिस्तान (Afghanistan) ने सिरे से नकार दिया है. अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि इस नाज़ुक मोड़ पर इलज़ाम लगाने से कुछ भी अच्छा नहीं होने वाला है. अफ़ग़ानिस्तान में अमन इस क्षेत्र के मुल्कों ख़ासकर पाकिस्तान के हित में है.

वैज्ञानिकों का दावा: Covaxin से अधिक एंटीबॉडी बनाती है Covishield जानिए आप कौन सा लगाए

अफगानिस्तान ने टिप्पणियों पर जताई नाराजगी

अफ़ग़ानिस्तान के सांसद नेमतुल्लाह कारयाब ने भी पाकिस्तानी (Pakistan) विदेश मंत्री की इस टिप्पणी पर अपनी नाराजगी जताई. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान के विदेश मंत्री का हालिया बयान अफ़ग़ानिस्तान के अंदरूनी मामलों में साफ़ तौर पर दखलंदाज़ी है. इसे किसी सूरत में सहन नहीं किया जा सकता. पाकिस्तान को अपन रवैये में सुधार लाना चाहिए.’

बताते चलें कि अफगानिस्तान (Afghanistan) से अमेरिका के जाने के बाद पाकिस्तान वहां पर तालिबान को बिठाकर अपनी प्रॉक्सी सत्ता चलाने की फिराक में है. इसके लिए वह बेसब्री से अमेरिकी सैनिकों के जाने का इंतजार कर रहा है. उसने तालिबान के जरिए अफगानिस्तान में हमले भी तेज करवा दिए हैं. जिससे अफगानिस्तान की सरकार में गहरी नाराजगी है. वहां के राष्ट्रपति अब्दुल घनी समेत NSA हमदुल्लाह मोहिब और अन्य मंत्री इसके लिए पाकिस्तान की आलोचना करते रहे हैं.