आखिर देश में इतनी तेज़ी से क्यो फैल रहा है कोविड? एक्सपर्ट ने बताई चार कारण

नई दिल्ली। कोविड वायरस संक्रमण की दूसरी लहर (Coronavirus 2nd wave) ने भारत में कोहराम मचा दी है. बीते साल के मुकाबले इस बार ये वायरस बहुत तेज़ी से फैल रहा है. बीते  24 घंटे में 1 लाख 61 हज़ार से अधिक नए केस सामने आए हैं, जबकि इस दौरान 879 मरीजों की मौत हुई है. इस साल जनवरी के महीने में कोविड की रफ्तार बेहद कम हो गई थी. लेकिन फरवरी के दूसरे सप्ताह के बाद हर दिन मरीजों की संख्या बढ़ती चली गई और अब अप्रैल के महीने में वायरस का संक्रमण सारा रिकॉर्ड तोड़ रहा है.

कहा जा रहा है कि अप्रैल खत्म होते-होते कोरोना देशभर में पीक पर पहुंच जाएगा. आखिर क्या कारण है कि कोविड की रफ्तार लगातार बढ़ती जा रही है? क्या कहते हैं एक्सपर्ट? आईए एक नज़र डालते हैं वह चार वजह पर जिससे कोविड पर लगाम लगाना मुश्किल हो गया है…

कोविड के अलग-अलग वेरिेंएंट

इस बार दो तरह के कोविड वायरस लोगों को परेशान कर रहे हैं- एक देसी और ढेर सारे विदेशी. अब तक ब्रिटेन, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका और न्यूयॉर्क में मिले वेरिएंट भारत में मिले हैं. मार्च के अंत में भारत के नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) ने एक नए वेरिएंट ‘डबल म्यूटेंट’ की जानकारी दी थी. महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब से लिए गए सैंपल में इस वेरिएंट की पहचान हुई थी. वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमिल ने समाचार एजेंसी पीटीई को बताया कि नए डबल म्यूटेंट के चलते केस लगातार बढ़ रहे हैं. उनके अनुसार 15-20 फीसदी केस नए वैरिएंट के हैं. ब्रिटेन का नया कोविड वेरिएंट दूसरे के मुकाबले 50 फीसदी तेज़ी से फैलता है.

छत्तीसगढ़ में रिकार्ड…13576 नए संक्रमित, 107 मौतें..इधर महासमुंद में कोरोना टेस्ट सुविधा बेहाल

  1. कोविड प्रोटोकॉल को नहीं मानना

इस साल जनवरी में कोविड की रफ्तार थमने के बाद से लोग बेहद लापरवाह हो गए हैं. सरकार भी लोगों से लगातार अपील कर रही है कि वो कोविड प्रोटोकल को माने. जमील के अनुसार,  भारत में सबकुछ खुला है, इसके चलते भी केस काफी अधिक बढ़ रहे हैं. हालांकि प्रदेश सरकारें अब धीरे-धीरे कई चीज़ों पर पाबंदियां लगा रही हैं.

  1. वैक्सीनेशन की रफ्तार

देशभर में जनवरी के दूसरे सप्ताह में वैक्सीनेशन की शुरूआत की गई थी. लेकिन कई लोग वैक्सीन लगाने से झिझक रहे थे. जमिल ने कहा, ‘हेल्थ वर्कर्स भी वैक्सीन लगाने से झिझक रहे थे. इसके साथ मार्च में जब 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू हुआ तब भी लोग वैक्सीनेशन सेंटर पर नहीं आ रहे थे. अब तक सिर्फ .7% लोगों को वैक्सीन की दो डोज लगी है. जबकि सिर्फ 5 फीसदी लोगों ने अब तक वैक्सीन की पहली डोज़ ली है. इसलिए वायरस के संक्रमण पर इसका अधिक असर नहीं पड़ा है.’

  1. खत्म हो रही लोगों में एंटीबॉडीज़

इसके अलावा, इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) के एक हालिया अध्ययन ने कहा कि कोरोना से संक्रमित 20% से 30% लोगों में छह महीने के बाद एंटीबॉडीज खत्म हो गई. यही कारण कि लोग कोविड से दोबारा संक्रमित हो रहे हैं. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) कानपुर के वैज्ञानिकों के अनुसार कोविड की दूसरी लहर अप्रैल के मध्य तक पीक पर आ सकती है।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123

Leave a Comment