देश/विदेशमेरा गांव मेरा शहर

उद्धव का कुर्सी छीनने के बाद अब शिवसेना पर शिंदे गुट का होगा कब्जा!

महाराष्ट्र (Maharashtra) में शिवसेना प्रमुख रहे बाला साहेब ठाकरे का नाम आदित्य ठाकरे के लिए बड़ी ढाल बन गया है. अपने दादा के नाम की वजह से आदित्य ठाकरे विधायकी गंवाने की खतरे से बाहर हो गए हैं.

महाराष्ट्र में शिवसेना  के उद्धव ठाकरे (Uddhav) और एकनाथ शिंदे (Eknath) गुट के बीच चल रही राजनीतिक जंग अभी थमी नहीं है. असेंबली में विश्वासमत प्रस्ताव जीतने के बाद अब शिंदे गुट ने ठाकरे खेमे के 14 MLA को अयोग्य घोषित करवाने की कार्रवाई शुरू कर दी है. इसके लिए शिंदे गुट के करीबी विधायक और मुख्य सचेतक भरत गोगावले की ओर से उन्हें नोटिस जारी किया गया. शिंदे गुट का आरोप है कि ठाकरे खेमे के MLA ने व्हिप का पालन करते हुए शिंदे गुट के पक्ष में मतदान नहीं किया.

ठाकरे खेमे के 14 MLA को नोटिस जारी

महाराष्ट्र असेंबली में शिवसेना के कुल 55 MLA हैं. इनमें से 39 विधायक एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के साथ थे, जबकि 16 ठाकरे (Uddhav Thackeray) खेमे से जुड़े थे. विश्वास मत प्रस्ताव के दौरान ठाकरे खेमे का एक और MLA टूट कर शिंदे गुट के साथ जुड़ गया. इसके साथ ही ठाकरे खेमे में आदित्य ठाकरे समेत केवल 15 MLA शेष बचे रह गए. जबकि उद्धव ठाकरे MLC हैं. असेंबली के नए स्पीकर राहुल नार्वेकर ने रविवार को गोगावले को शिवसेना के मुख्य सचेतक के रूप में मान्यता दी थी. इसके बाद शिंदे गुट ने आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) को छोड़कर ठाकरे खेमे के बाकी 14 विधायकों को अयोग्य ठहराने के लिए नोटिस जारी किया है.

Vidur Niti, जिस मनुष्य में होते हैं यह 10 लक्षण, हमेशा होते हैं सुखी, जानें वह बातें

आदित्य का नाम लिस्ट में शामिल नहीं

इन नोटिस में आदित्य ठाकरे का नाम शामिल न करने की वजह भी शिंदे गुट (Eknath Shinde) ने स्पष्ट की है. पार्टी के चीफ व्हिप भरत गोगावले ने कहा कि बाला साहब ठाकरे के प्रति सम्मान की वजह से उनके पोते आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) का नाम इस सूची में नहीं डाला गया है. गोगावले ने कहा कि अगर नोटिस पाने वाले 14 MLA ने उचित जवाब पेश नहीं किया तो उन्हें विधायक पद से अयोग्य ठहराने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी.

पार्टी पर कब्जे को लेकर नई जंग 

पार्टी सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र में सरकार बनाने के बाद एकनाथ शिंदे की नजर अब पार्टी पर अपना कब्जा बनाने की है. इसी को लेकर शिंदे गुट (Eknath Shinde) और ठाकरे खेमे (Uddhav Thackeray) में खाई और चौड़ी हो गई है. माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में पार्टी के कुछ सांसद भी टूटकर शिंदे खेमे में शामिल हो सकते हैं. साथ ही पार्टी के कई जिला प्रमुख और जिला संपर्क प्रमुख भी शिंदे गुट के साथ अपना दामन जोड़ सकते हैं. अगर ऐसा होता है तो यह उद्धव ठाकरे के लिए बहुत बड़ा झटका होगा. सरकार के समर्थन में 164 वोट पड़े जबकि विपक्ष में 99 लोगों ने मतदान किया. कई विधायक सदन से अनुपस्थित रहे.

https://twitter.com/WebMorcha

https://www.facebook.com/webmorcha

https://www.instagram.com/webmorcha/

Related Articles

Back to top button