धर्मांतरण को लेकर CG बीजेपी का गुस्सा… पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ घुसे… पूर्व मिनिस्टर बृजमोहन ने कहा- धर्मांतरण नहीं रुका तो इस गर्वमेंट का हवा पानी गोल कर देंगे!

0
32
webmorcha.com
धर्मांतरण

रायपुर। प्रदेश में धर्मांतरण को लेकर छत्तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी गुस्सा में है। कई के बड़े नेता कई कार्यकर्ता सड़क पर उतर रहे हैं। आज इसी मामले को लेकर सभी CM निवास घेराव करने के लिए निकले थे। जय श्री राम के नारे लगाते हुए धर्मांतरण करने वालों के खिलाफ पूर्व मिनिस्टर बृजमोहन अग्रवाल और सांसद सुनील सोनी आगे घुसे। बूढ़ा तालाब के बुढ़ेश्वर मंदिर के पास Pollce की बैरिकेडिंग तोड़कर, उसी पर चढ़कर पूर्व मिनिस्टर बृजमोहन अग्रवाल ने धर्मांतरण के खिलाफ जमकर नारे लगाए।

इसके बाद सप्रे स्कूल के पास भी Police के साथ BJP  के कार्यकर्ताओं और Police  के बीच झड़प हो गई। पार्षद मृत्युंजय दुबे बैरिकेड पर चढ़कर आगे जाने की कोशिश करते रहे और Police  उन्हें खींचती रही। इस दौरान पुलिस और पार्षद समर्थकों के साथ झूमाझटकी भी हुई। रैली निकालकर CM  आवास की ओर कूच करते पूर्व मिनिस्टर बृजमोहन अग्रवाल और सांसद सुनील सोनी का रास्ता सप्रे स्कूल के पास Police  ने रोक लिया। इससे नाराज होकर इन नेताओं ने सड़क पर धरना दे दिया। नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे भी सड़क पर बैठकर नारे लगाती नजर आईं। मौके पर मौजूद जिला प्रशासन के अधिकारियों ने सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए प्रदर्शनकारियों को आगे जाने की इजाजत नहीं दी।

सभी को स्कूल कैंपस में बनी अस्थाई जेल में ले जाया गया। यहां 500 से अधिक प्रदर्शनकारियों ने गिरफ्तारी दी। सांसद सुनील सोनी, MLA बृजमोहन अग्रवाल को भी यहीं गिरफ्तार कर लिया गया। कुछ देर बाद सभी को छोड़ा गया। बीते कुछ महीनों में प्रदेश के सरगुजा, बस्तर और रायपुर, दुर्ग संभाग में धर्म परिवर्तन कराने की घटनाएं सामने आई हैं।

बृजमोहन ने कानून-व्यवस्था बिगड़ी तो भुगतना होगा, पब्लिक परेशान

मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व मिनिस्टर बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि रायपुर राजधानी के साथ आसपास के क्ष्ज्ञैत्रों में धर्मांतरण की गतिविधियां बढ़ गई है। स्थिति यह है कि लोग धर्मांतरण करने वालों की पिटाई कर रहे हैं। यदि सरकार ने धर्मांतरण के मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया तो आगे कानून व्यवस्था की बिगड़ी हुई स्थिति भुगतनी होगी। पब्लिक इस मुद्दे से बेहद परेशान हैं और आने वाले दिनों में यदि सरकार धर्मांतरण की घटनाओं पर रोक नहीं लगाती तो जनता सरकार की हवा-पानी गोल कर देगी।