जुलाई 2021 का कुंभ राशिफल – जानिए इस माह कैसे बीतेगा आपका समय

जुलाई 2021 का कुंभ राशिफल:  जुलाई का महीना कुंभ राशि के जातकों के लिए औसत से बेहतर रहने की उम्मीद की जा सकती है। कामकाज के लिहाज से महीने की शुरुआत थोड़ी धीमी होगी। काम-धंधे से मन उचाट रह सकता है। आलस्य और भ्रम की स्थिति रहेगी। नौकरीपेशा लोगों को कामकाज में मन लगाने की आवश्यकता है। बहाने बनाने की प्रवृति छोड़नी होगी, अन्यथा परेशानी में आ सकते हैं।

कार्यक्षेत्र

करियर और कामकाज के दृष्टिकोण से समय उतार-चढ़ाव से भरा रहने वाला है। दशम भाव में केतु की उपस्थिति से कार्यक्षेत्र से मोह भंग की संभावना है। कामकाज में आपका मन नहीं लगेगा। मन उचाट रहेगा और दिमाग में नई-नई बातें चलती रहेंगी। नए-नए विचार आपको किसी काम पर ध्यान केंद्रित नहीं करने देंगे। नौकरीपेशा लोगों को दफ्तर में अपने वरिष्ठ अधिकारियों की नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है।

आर्थिक

आर्थिक दृष्टिकोण से जुलाई का महीना उतार-चढ़ाव के साथ लाभ प्रदान करने वाला रहेगा। महीने के पूर्वार्ध में एकादश भाव पर सूर्य की दृष्टि रहेगी। यह स्थिति आय के लिए अत्यंत लाभदायक है। आमदनी में वृद्धि होगी। यदि आपका व्यवसाय सरकारी क्षेत्र से जुड़ा है, तो वहां से भरपूर लाभ के अवसर बन सकते हैं। शासन-प्रशासन के सहयोग से आय के नए अवसर खुल सकते हैं। सरकारी नौकरी वाले लोगों के लिए समय अनुकूल रहेगा। आपके प्रभाव में वृद्धि होगी।

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से जुलाई का महीना सामान्य रहने वाला है। किसी प्रकार की विशेष परेशानी आने की आशंका नहीं है। द्वादश भाव में शनि की उपस्थिति और छठे भाव में मंगल और शुक्र के होने से पैरों में कुछ तकलीफ हो सकती है। अनिद्रा, नेत्र विकार और अनियमित रक्तचाप संभव है। यदि आप इन रोगों से पहले से पीड़ित हैं, तो अपनी दवाएं समय से लेते रहें। खान-पान और योग-व्यायाम का ध्यान रखेंगे, तो इन पर आसानी से काबू पा सकते हैं।

जुलाई  2021 का मकर राशिफल – जानिए इस माह कैसे बीतेगा आपका समय

प्रेम व वैवाहिक

प्रेम संबंधों के लिए जुलाई का महीना उतार-चढ़ाव भरा रह सकता है। महीने के पूर्वार्ध में पंचम भाव में सूर्य की उपस्थिति रहेगी। इससे आपसी संबंधों में सामंजस्य की कमी हो सकती है। एक दूसरे पर हावी होने की प्रवृत्ति संबंधों में तनाव पैदा कर सकती है। एक दूसरे के साथ संवादहीनता या बोलचाल बंद होने की स्थिति भी बन सकती है। हालांकि 7 तारीख से बुध का गोचर पंचम भाव में होने के बाद आपसी तनातनी दूर हो जाएगी। संवादहीनता की स्थिति खत्म हो जाएगी। एक दूसरे को समझने के प्रयास होंगे, तो संबंध फिर से सहज हो जाएंगे। एक दूसरे के प्रति प्रेभभाव बढ़ेगा।

पारिवारिक

घर-परिवार के सुख के लिहाज से देखें तो जुलाई का महीना मिले-जुले परिणाम देने वाला साबित हो सकता है। चतुर्थ भाव में राहु और बुध की उपस्थिति के फलस्वरूप पारिवारिक जीवन में मिश्रित परिणाम देखने को मिलेंगे। स्थिति कभी बहुत आनंददायक रहेगी, तो कभी बहुत नीरस। परिजनों के साथ समय व्यतीत करने का अवसर मिलेगा। खूब बातें भी होंगी। नई-नई योजनाएं भी बनेंगी, लेकिन लोग आपके विचारों को गंभीरता से नहीं लेंगे, इससे आपको दुख हो सकता है। मन खिन्न हो सकता है और दुराव का भाव आ सकता है।

उपाय

1- प्रतिदिन सूर्य अष्टक का पाठ करना आपके लिए लाभदायक रहेगा।

2- छाया दान करें अर्थात कटोरी में थोड़ा-सा सरसों का तेल लेकर दान करें।

3- अंधे, अपंगों, सेवकों और सफाई कर्मियों से अच्छा व्यवहार रखें।

4- पराई स्त्री से कभी संबंध न रखें।