कोमाखानरायपुर

भाजपा गुगल फार्म के जरिए मतदाताओं की खड़ी कर रही फौज, वेलेंटियर तैयार सिखाए जा रहे गुर 

छत्तीसगढ़ के सियासी खेल में भाजपा बड़े पैमाने पर भाजपा की फौज खड़ी कर रही है। जिसमें वह भाजयुमों की 21 हजार वालेंटियर लोगों को जोडऩे की तैयारी कर रहे हैं। प्रदेश की जनसंख्या और मतदाता की संख्या के अनुपात के हिसाब से पार्टी के साथ वालेंटियर जोड़े जाएंगे। विधानसभा चुनाव के लिए मोर्चा सैकड़ों वालिंटियर्स तैयार कर रहा है। राजधानी में करीब 500 वालिटियर्स को इसकी बारीकियां समझाई गई। भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष व आईटी विशेषज्ञों ने उन्हें ट्रेंड किया। इस गूगल फार्म की खासियत यह है कि एक तय नंबर पर मिस्स कॉल करते ही मोर्चे का लिंक एसएमएस के जरिए सर्व हो जाता है।

http://बंजर भूमि को बनाया उपजाउ, शिक्षकों की पहल… खुद खर्च कर स्कूल में बनाया बाउंड्री अब इसमें फलदार पौधे रोपित

भाजपा अपने 65 प्लस के मूड़ में

बता दें कि भाजपा अपने 65 प्लस के मूड़ में आ चुकि है, जिसके लिए वह सभी गांव-शहर से संपर्क साधने की तैयारी कर रही है।

भारतीय जनता पार्टी के यूथ विंग भाजयुमो ने चुनावी तैयारी तेज कर दी है।

मोर्चे ने एक गूगल फार्म बनाया है। इसके जरिए वह विधानसभा का चुनाव लड़ने मैदान में उतरेगी।

http://ब्रेकिंग। बागबाहरा शहर में घुसा भालू, कटीले तार में फंसा, लोग दहशत में

इन युवाओं को एकात्म परिसर में प्रदेश महामंत्री संगठन पवन साय, मोर्चा प्रभारी रामप्रताप सिंह,

भाजयुमो के राष्ट्रीय सचिव गौरव तिवारी, प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा,

वालंटियर प्रोग्राम के प्रदेश संयोजक कमल गर्ग ने चुनावी टिप्स दिए।

भाजयुमो इन्हें राज्यभर में भेजकर कार्यकर्ताओं को दक्ष करवाएगा।

लोगो को जोडऩे के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल

वैलेंटियर मतदाताओं को लिंक के माध्यम से फार्म भराया जा रहा है।

वहीं भाजपा में जुडऩे के लिए कॉल का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

जिसमें कोई भी मतदाता मिस्डकॉल से लिंक प्राप्त कर सकता है, और फार्म भर सकता है।

http://वृष राशि के जातक लेन-देन में रखें सावधानी, मिथुन राशि के जातक का दिन अच्छा

राजनीतिक दलों के डिजिटल मोड पर काम करने में भाजपा आगे रही है, लेकिन बताते हैं यह एप्प उसे एक कदम और आगे ले जाएगा। अब तक भाजपा की नीतियों व कार्यक्रमों, सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी देना होता तो भाजपा के वालिंटियर्स या कार्यकर्ता युवाओं के बीच जाते थे।

उन्हें एक -एक करके जानकारी देने लिंक भेजते थे। डिजिटल रूप में हरेक को लिंक सरकुलेट करना पड़ता था, लेकिन अब यह आसान हो गया है। इसका सबटिट्यूट ढूंढ लिया गया है। यही गूगल फार्म की विशेषता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button