देश/विदेशमेरा गांव मेरा शहरलेख-आलेख

हो जाएं सावधान, देश में मंकीपॉक्स के सामने आए 4 मामले, जानें लक्षण, ये शख्स बिना विदेश गए संक्रमित?

Monkeypox: मंकीपॉक्स (Monkeypox) के विश्वभर में 16 हजार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. इस बीच, दिल्ली में भी मंकीपॉक्स का एक केस और सामने आया है. भारत में अब तक मंकीपॉक्स के 4 मामले सामने आ चुके हैं.

Monkeypox मंकीपॉक्स (Monkeypox) का खतरा लगतार बढ़ता जा रहा है. विश्वभर के 75 देशों में मंकीपॉक्स (Monkeypox) दस्तक दे चुका है और 16 हजार से अधिक संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं. इस बीच, रविवार को मंकीपॉक्स ने देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में भी दस्तक दे दी. यहां एक शख्स को मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया, जिसके बाद उसे तुरंत दिल्ली स्थित एलएनजेपी अस्पताल (LNJP Hospital) में भर्ती कराया गया. हालांकि, लोग तब हैरान रह गए जब पता चला कि संक्रमित व्यक्ति की ट्रैवल हिस्ट्री विदेश की नहीं है. तब सब सोच में पड़ गए कि ये शख्स बिना विदेश गए संक्रमित कैसे हो गया?

बिना विदेश गए कैसे संक्रमित हुआ व्यक्ति?

दिल्ली में रविवार को मंकीपॉक्स (Monkeypox) का एक केस सामने आने के बाद डॉक्टरों ने लोगों से सावधान रहने के लिए कहा. हालांकि, डॉक्टरों ने ये भी कहा कि इसे लेकर घबराने की जरूरत नहीं है, बस सतर्कता बरतते रहें. जांच में सामने आया है कि दिल्ली मे मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया शख्स हाल ही में हिमाचल प्रदेश गया था और वहां एक पार्टी में शामिल हुआ था. माना जा रहा है कि शख्स उसी पार्टी में मंकीपॉक्स (Monkeypox) से संक्रमित हो गया.

मंकीपॉक्स के लक्षण क्या हैं?

फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टिट्यूट में इंटरनल मेडिसीन के डॉक्टर श्री बालाजी के मुताबिक, हमें यह समझना होगा कि घबराने वाली कोई बात नहीं है. मंकीपॉक्स एक हल्का संक्रमण है, इसके लक्षण चेचक के समान होते हैं. वहीं, सेंटर फॉर कम्युनिटी मेडिसीन, एम्स के एडिशनल प्रोफेसर हर्षल साल्वे ने कहा, ‘मंकीपॉक्स मनुष्यों में श्वसन बूंदों और रोगियों के शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क से फैलता है. हॉस्पिटल की निगरानी और मामलों में आइसोलेशन से संक्रमण के प्रसार की रोकथाम की जा सकती है. घबराने की कोई जरूरत नहीं है.

अब ये नए बीमारी मंकी पॉक्स का खौफ, 11 देशों में फैल चुका, MP में अलर्ट, जानें लक्षण

नाक, मुंह और आंख से प्रवेश कर रहा वायरस

जानकारी के अनुसार मंकी पॉक्स का वायरस नाक, मुंह और आंख से शरीर में प्रवेश करता है, वर्तमान में लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनना छोड़ दिया है, यही कारण है कि ये वायरस फिर से अटेक करने लगा है, लोगों को इससे बचे रहने के लिए भीड़ भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचना चाहिए, कुछ भी चीज खाते-पीने से पहले साबुन से हाथ धोना चाहिए। ताकि इस वायरस से दूरी बनी रहे। बताया जाता है कि मंकी पॉक्स में शरीर पर घाव जैसे निशान हो जाते हैं, जिसमें से वायरस दूसरे लोगों के नाक, मुंह और आंख में प्रवेश कर जाता है।

जानें ये हैं मंकी पॉक्स के लक्षण

 तेज बुखार

त्वचा पर चकत्ते

सिरदर्द

मांसपेशियों में दर्द

थकावट

गले में खराश और खांसी

आंख में दर्द या धुंधला दिखना

सांस लेने में कठिनाई

सीने में दर्द

पेशाब में कमी

बार-बार बेहोश होना

दौरे पडऩा

वैसे तो इनमें से कुछ समस्या होने पर जरूरी नहीं कि मंकी पॉक्स ही हो, लेकिन इसी प्रकार के लक्षण पीडि़त व्यक्ति में नजर आते हैं, इसलिए अगर इस प्रकार के लक्षण किसी में नजर आएं, तो उससे दूरी बनाकर रखें, क्योंकि ये बीमारी संक्रमित व्यक्ति को छूने से भी फैलती है।

Related Articles

Back to top button