बिलासपुर में नागा साधु को Police ने बेरहमी से पीटा, रुपए और चांदी के बर्तन भी लूटने का लगा आरोप

बिलासपुर। महाराष्ट्र के बाद अब Chhattisgarh में भी साधु से मारपीट करने का गंभीर मामला सामने आया है। यहां पर ग्रामीणों ने नहीं बल्कि Police आरोपों के घेरे में है। बिलासपुर पहुंचे नागा साधु को पुलिस कर्मचारी ने थाने ले जाकर बुरी तरह से पीटने का आरोप लगा है। इसके बाद उनके पास मौजूद करीब सवा लाख रुपए और चांदी के बर्तन भी लूट लेने का गंभीर आरोप Police पर लगे हैं। रेलवे कर्मचारी ने उन्हें घायल हालत में सड़क किनारे देखा तो उनके गुरू भाई के आश्रम तक पहुंचाया।

जानकारी के अनुसार, जूना अखाड़ा के नागा साधु योगी गंगापुरी सोमवार सुबह सेकेंड AC से ट्रेन में त्रिवेंद्रम से बिलासपुर पहुंचे थे। उनको यहां चकरभाटा रेलवे स्टेशन (railway station) के पास अनुसुइया धाम में अपने गुरु भाई शंभू महाराज के आश्रम में जाना था। स्टेशन (railway station) पर उतरने के बाद वह बाहर ही स्नान कर रहे थे। इसी दौरान दो पुलिसकर्मी पहुंचे और संदेह जताते हुए उन्हें तोरवा थाने ले गए। आरोप है कि वहां उनको बुरी तरह से पीटा गया।

छत्तीसगढ़: लेडी टीचर करती थी 16 साल के छात्र का सेक्सुअल हैरेसमेंट.. स्टूडेंट ने जान दी, सुसाइड नोट को 5 दिन बाद Decode कर पाई Police

webmorcha.com
साधु

नहीं बोल पा रहा था स्थानीय भाषा

उनके पास मौजूद थैले को भी पुलिसकर्मियों (Policemen)  ने छीन लिया। उनके थैले में करीब सवा लाख रुपए, 12 हजार रुपए का मोबाइल, चांदी के बर्तन थे। आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने उसे लूट लिया। साधु स्थानीय भाषा ठीक से न तो बोल पा रहे थे और समझ पा रहे थे। इसके बाद उन्हें पुलिसकर्मियों (Policemen) ने बाहर भगा दिया। वह घायल हालत में गड़ा गिरजा के पास कराह रहे थे। तभी वहां से रेलकर्मी प्रमोद नगई निकले। पहले तो उन्हें लगा कि कोई मानसिक विक्षिप्त है।

फिर नग्न देख घर से कपड़े लाकर पहनाने लगे। इस पर नागा साधु (Naga monk) ने बताया कि वह नियमों में बंधे हुए हैं और कपड़े पहनने से इनकार कर दिया। संत होने का पता चलने पर प्रमोद उन्हें अपने घर ले गए और घाव पर दवाई लगाई। इसके बाद नागा साधु (Naga monk) के बताने पर प्रमोद ने उन्हें गुरु भाई के आश्रम पहुंचा दिया। सूचना मिलने पर BJP और बजरंग दल कार्यकर्ता उन्हें लेकर थाने पहुंचे तो उन्होंने उस जगह को पहचान लिया।

Leave a Comment