एकादशी पर बिरयानी-मटन खिलाया और नेता अमित जोगी ने किया पोस्ट, लोगों ने कहा धर्म का अपमान

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष और मरवाही के पूर्व MLA जोगी बंगले में हुए एक भोज की तस्वीर डालकर बुरी तरह ट्रोल (फंस) हो गए हैं। अमित जोगी (Amit Jogi) ने गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही के कार्यकर्ताओं के लिए रविवार को एक भोज का आयोजन किया। उसकी तस्वीरें जारी कर उन्होंने लिखा एकादशी पर्व पर हैदराबाद की बिरयानी बनाई। लोगों ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी। कई लोगों ने तो इसे धर्म का अपमान तक बता दिया।

अमित जोगी (Amit Jogi)  ने लिखा, आज GPM जिले के प्यारे JCCJ के सम्मानित सदस्यों के लिए अपने पैतृक निवास पर मैंने एकादशी पर हैदराबाद की 12 घंटे तक धीमी आंच में खास मसालों में पकी उम्दा कच्ची मटन बिरयानी बनाई। सदियों से पहले सीरिया से आए केरल में बसे रूढ़िवादी ईसाई समुदाय का ईस्टर चिकन, गोवा के मूल निवासियों की खट्‌टी-मीठी काजू करी और छत्तीसगढ़ की मशहूर पाताल के झोझो के साथ मिर्ची, प्याज, आलू और बैगन के भजिए खुद पकाकर सबको परोसा।

वृष, मिथुन, कर्क, कन्या और कुंभ पर सूर्य की रहेगी विशेष नजर

अमित जोगी (Amit Jogi)  ने लिखा, पापा के लिए हर रात उनके पसंदीदा व्यंजन बनाने ने मुझे एहसास दिलाया कि अपने प्रियजनों के लिए दिल से खाना पकाने और खिलाने में कितनी खुशी मिलती है। अमित जोगी ने लिखा, ईश्वर ने चाहा और वक्त मिला तो ऐसा मैं अपने आगामी दौरे में प्रत्येक जिले में JCCJ परिवार के सदस्यों के लिए करना चाहूंगा।

एकादशी पर मांसाहार से भड़के लोग

दुर्गेश कुमार देवांगन नाम के एक यूजर ने लिखा, बहुत ही अच्छा काम है आपका। लेकिन एकादशी के दिन ही क्यों आयोजन किए महोदय? किए तो किए पर लिखना अनिवार्य था क्या। नीरज यादव ने लिखा, शर्म कर एकादशी पर मटन बिरयानी पकाकर खा रहा है, औरों को भी परोस रहा है। सुधीर आरती मिश्रा नाम के एक यूजर ने लिखा, एकादशी को सात्विक भोजन किया जाता है। लहसुन-प्याज भी नहीं खाते और आप गर्व के साथ चिकन-मटन पका रहे हैं और बता भी रहे हैं।

यूजर्स ने धर्म के अपमान का आरोप भी लगाया

आशीष कपूर नाम के एक यूजर ने लिखा, एकादशी पर बिरयानी। हिंदू संस्कृति का थोड़ा तो सम्मान और विचार करें। एकादशी पर चावल खाना वर्जित है और आप तो बिरयानी खा रहे हैं। कृपा कर अपनी पोस्ट से एकादशी शब्द को हटा दें और माफी मांगे। अशोक ताम्रकार ने लिखा, अजीब बेशर्मी वाला पोस्ट है। हिंदू धर्म का अपमान है। हेमंत शर्मा ने लिखा, एकादशी लिखना जरूरी था क्या नेताजी। भोजन की निजता पर आपका पूरा अधिकार है, पर शब्दावली पर आपत्ति है।

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123

Back to top button