जुलाई 2021 का कर्क राशिफल – जानिए इस माह कैसे बीतेगा आपका समय

जुलाई कर्क: कैरियर की दिशा से यह माह मिला-जुला रहेगा। माह के पहले पखवाड़े में मानसिक उलझनों के कारण कुछ कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन दूसरा पखवाड़ा बेहतर रहेगा। आप अपने प्रयासों से काम-धंधे में प्रगति कर सकते हैं। व्यवसाय में अपेक्षित सफलता मिल सकती है। इस माह पढ़ाई-लिखाई में मन लगेगा, लेकिन ध्यान भटकने से शिक्षा में कुछ बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं। कुछ नया सीखने की कोशिश कर सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता में संदेह है।

कार्यक्षेत्र

कर्क राशि वालों के लिए करियर की दृष्टि से यह माह मिश्रित फल देने वाला रहेगा। आपको मानसिक तनाव हो सकता है। आप अपनी ओर से पूरी कर्मठता दिखाएंगे, परिश्रम में कोई कमी नहीं रखेंगे, लेकिन मानसिक तनाव के कारण कार्यक्षेत्र में समस्याएं आ सकती हैं। परिश्रम के अनुसार, कार्यक्षेत्र में फल नहीं मिलेगा। नौकरी में भी परिश्रम के बावजूद आप अपनी क्षमता के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे। इससे कार्यस्थल पर आपकी प्रतिष्ठा में कमी आएगी। लेकिन माह के उत्तरार्ध में स्थिति ठीक होगी।

आर्थिक

इस माह कर्क राशि के जातकों का आर्थिक पक्ष बढ़िया रहने की उम्मीद है। ग्रह-गोचर ऐसे हैं कि पूरे माह आपको आर्थिक लाभ होता रहेगा। आय और लाभ के भाव एकादश भाव में बुध और राहु विराजमान हैं। इससे आपके लिए प्रबल लाभ के योग बन रहे हैं। नियमित स्रोतों से अच्छी आय होगी। आय के कुछ नए स्रोत भी बन सकते हैं। नौकरी में वेतन-भत्तों आदि में वृद्धि हो सकती है। किसी प्रकार का इन्सेंटिव मिल सकता है। व्यापार में अच्छा लाभ होगा। कहीं से कोई पुराना पैसा बहुत दिनों बाद मिल सकता है।

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य की दृष्टि से यह समय थोड़ा ठीक नहीं है। राशि में मंगल और शुक्र की उपस्थिति है तथा उस पर शनिदेव का प्रभाव है। यह स्थिति सेहत के लिहाज से अनुकूल नहीं है। इसके अलावा, देवगुरु वृहस्पति आपके अष्टम भाव में स्थित हैं, जो आयु, दुर्घटना आदि का भाव है। पंचम भाव में केतु विराजमान हैं और उस पर बुध दृष्टि डाल रहे हैं। साथ ही, 20 तारीख के बाद इस भाव पर मंगल की भी दृष्टि पड़ेगी।

मिथुन, 2021 का राशिफल – जानिए इस माह कैसे बीतेगा आपका समय

प्रेम व वैवाहिक

अगर आप प्रेम संबंध में हैं, तो इस माह आपको थोड़ा संभलकर रहना पड़ेगा। पांचवें भाव में छायाग्रह केतु विराजमान हैं और उस पर बुध की दृष्टि भी है। दोनों ग्रहों की यह युति प्रेम संबंधों के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण साबित हो सकती है। प्रेमी-प्रेमिका के बीच वैचारिक सामंजस्य का अभाव हो सकता है। ज्यादातर बातों पर एक दूसरे से असहमति हो सकती है। यहां तक कि छोटी-छोटी बातों पर भी लड़ाई हो सकती है। इससे बचने की जरूरत है, अन्यथा छोटी-छोटी बातों से उपजा विवाद बहुत अप्रिय स्थिति तक पहुंच सकता है।

पारिवारिक

इस माह कुल मिलाकर आपका पारिवारिक जीवन ठीकठाक रहेगा। कोई ऐसी समस्या नहीं आएगी, जिससे परिवार का माहौल ज्यादा खराब हो। चतुर्थ भाव, जो माता, सुख, वाहन, प्रॉपर्टी आदि का भाव है, उस पर मंगल की दृष्टि है। मंगल गर्म मिजाज के ग्रह हैं, इसलिए इस भाव पर दृष्टि डाल कर हल्की-फुल्की समस्याएं दे सकते हैं। घर में किसी बात पर हल्की कहा-सुनी हो सकती है। हल्की-फुल्की बहस भी हो सकती है, लेकिन कोई गंभीर बात होने की आशंका नहीं है। इसके बाद मंगल चतुर्थ भाव में चले जाएंगे।

उपाय

1- मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ करना आपके लिए अत्यंत शुभ और मंगलकारी रहेगा।

2- हर सोमवार पानी या दूध को साफ पात्र में सिरहाने रखकर सोएं और सुबह कीकर के वृक्ष की जड़ में डाल दें।

3- दो चांदी के टुकड़े लेकर एक टुकड़ा पानी में बहा दें तथा दूसरे को अपने पास रखें।