सावधानी ही बचाएगी : ठंड और त्यौहारी सीजन में कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक, जानते हैं विशेषज्ञों की राय

webmorcha.com
ठंड

अति उत्साह और त्योहारी खुमारी में अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने से बचे : सीएमएचओ केसरी

रायगढ़ 20 अक्टूबर।  अक्टूबर अपने आखिरी सप्ताह में प्रवेश कर रहा है, बहुत जल्द सर्दी शुरू होने वाली है।  ठंड के दिनों में कोरोना वायरस का खतरा और बढ़ेगा। डॉक्टरों ने सर्दी के मौसम में कोरोना संक्रमण बढ़ने का अंदेशा जताया है। सर्दी के साथ ही त्यौहारी मौसम भी शुरू हो रहे हैं जो कि ज्यादा खतरनाक हैं। 23 सितंबर से लगे लॉकडाउन के पहले के दो दिनों में लोगों का बाजार में उमड़ी भीड़ जिला प्रशासन के जेहन में बसी हुई है। त्यौहारी सीजन शुरू होने से पहले ही बाजार की रौनक बढ़ गई है और लोगों की भीड़ उमड़ना शुरू हो चुकी है। जैसे से त्यौहार नजदीक आएंगे बाजार में भीड़ को काबू करना मुश्किल होता जाएगा।

अशर्फी देवी, महिला चिकित्सालय के प्रभारी डॉक्टर रूपेंद्र पटेल बताते हैं कि मौसम के बदलने से नहीं मौसम बदलने के बाद लोगों के तौर-तरीके बदलने के कारण संक्रमण फैलता है। जैसे-जैसे ठंड बढ़ेगी और लोगों का एक जगह जुटना बढ़ेगा, वैसे-वैसे कोरोना का खतरा और बढ़ता जाएगा। सर्दियों में लोग घरों, ऑफिसों या बंद जगहों पर रहना पसंद करते हैं, इंडोर जगहों में वायरस के फैलने का खतरा ज्यादा रहता है।

गर्मी के मौसम में कोरोना वायरस फैलने का एक बड़ा कारण संक्रमित छोटे आकार के एरोसॉल कणों (हवा में मौजूद ठोस या वाष्पकण) का संपर्क में आना है। सर्दी में संक्रमण फैलने का मुख्य कारण सांस छोड़ने, खांसने या छींकने के दौरान मुंह और नाक से निकली बूंदों के सीधे संपर्क में आना हो सकता है इसलिए हमें गर्मी के मौसम से अतिरिक्त सावधानी ठंड के मौसम में रखनी होगी। पानी और साबुन से हाथ धोना आज भी सबसे बेहतर तरीका है कोरोना संक्रमण से बचने का।

हवा में 8 घंटे तक रह सकता है कोरोना का असर

डॉक्टरों का दावा है कि कोरोना वायरस एयरबॉर्न यानी हवा से फैलने वाला वायरस है, जो हवा में 8 घंटे तक रह सकता है इसलिए सभी को हर जगह मास्क पहनना अनिवार्य है। वायरस स्टील पर 2 घंटे, पेपर, प्लास्टिक पर 3-4 घंटे और हवा में 8 घंटे तक रह सकता है। यह जानलेवा वायरस छींकने या खांसने से करीब 6 फीट की दूरी तक जा सकता है। कोरोना वायरस सर्दी और नमी वाले मौसम में भी गर्मी व बरसात की तरह फैलता है, उनके मुताबिक, छींकने या खांसने के दौरान निकली संक्रामक बूंदें विषाणु को 6 फीट की दूरी तक ले जा सकती हैं। कोरोना से बचाव के लिए जितना संभव हो भीड़ से बचें, जैसे कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम के लिए प्रोत्साहित करें। बंद जगहों में मास्क का इस्तेमाल करें।

त्योहारी सीजन में सतर्क रहें : सीएमएचओ डॉ. केसरी

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसएन केसरी का कहना है कि ठंड की शुरुआत के साथ त्यौहारी सीजन भी शुरू हो रहा है। कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है लोगों को अब सबसे ज्यादा सावधानी बरतनी होगी। जिले में देखा जा रहा है कि लोग समय के साथ फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं। बाजार में भीड़ उमड़ रही है वह खतरनाक है। स्वास्थ्य विभाग लोगों से लगातार कोविड-19 के दिशा निर्देशों के पालन के लिए कह रहा है।

डॉ. केसरी कहते हैं कि दो गज दूरी मास्क है जरूरी यह अति आवश्यक है। लोग अति उत्साह और त्योहारी खुमारी में अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ न करें। आप सुरक्षित हैं तभी आपके त्योहारों में रौनक है।

शारीरिक दूरी रखें, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं : डॉ. पीके मिश्रा

बालाजी मेट्रो हॉस्पिटल के डॉक्टर प्रकाश मिश्रा (एमडी) ने बताया कि ठंड के मौसम में सर्दी, जुकाम सहित अन्य बीमारियां सामने आती हैं। मगर, इस बार कोरोना संक्रमण की वजह से आने वाला समय में स्थिति थोड़ी चिंताजनक हो सकती है। यदि लोग जरूरी एहतियात का पालन कर करें, तो ठंड में कोरोना होने के खतरे को कम किया जा सकता है। ठंड के मौसम में लोग घर और आफिस में बंद जगह पर रहना पसंद करते हैं। इससे इंडोर में वायरस फैलने का खतरा ज्यादा होता है। इसीलिए बंद जगहों जैसे रेस्टोरेंट, बार जाने से बचना चाहिए।

डा. मिश्रा ने बताया कि शारीरिक दूरी के साथ हमें शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सिगरेट, तंबाकू, शराब आदि नशे के सेवन से बचना चाहिए। पौष्टिक आहार का सेवन करें, भोजन में विटामिन सी, डी और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्व वाले आहार को भोजन में सम्मिलित करें। इसके साथ ही पर्याप्त नींद, दिनचर्या में योग, व्यायाम आदि शामिल करें और मानसिक रूप मजबूत रहना बेहद जरूरी है।

डाक्टर मिश्रा ने कहा कि मास्क का उपयोग, हाथ को सैनिटाइज करना या साबुन-पानी से हाथ धोना, हमेशा दो गज की दूरी बनाए रखें, भीड़ से बचना जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here