कोरोना के शिकार मृतकों के परिवार वालो के लिए आर्थिक सहायता स्वीकृत करे केंद्र व राज्य सरकार : शिवसेना

अभनपुर। छत्तीसगढ़ शिवसेना के शिवसैनिक रविकांत तारक (सोनु दिवाना) अपने रोकठोक अंदाज में प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि  कोरोना के शिकार मृतकों के परिवार वालो के लिए आर्थिक सहायता स्वीकृत करे केंद्र व राज्य सरकार याद हो कि शिवसेना के रविकांत तारक(सोनु दिवाना) लागतार प्रेस विज्ञप्ति जारी कर आम लोगो के एव कोरोना में हो रहे लोगो को परेशानीयो को देखते हुवे राज्य सरकार व केंद्र सरकार आम जनता के हिट में मांग रखते आ रहे हैं इसी के चले आज एक बार फिर रोकठोक अंदाज़ में प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कहा, कोरोना के शिकार मृतकों के परिवार वालो के लिए आर्थिक सहायता की मांग की है

http://उच्च शिक्षा मंत्री पटेल ने जिले में कोरोना प्रबंधन पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से ली समीक्षा बैठक

शिवसेना के रविकांत तारक(सोनु दिवाना) ने कहा कि देश के प्रमुख पद पर विराजमान नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं। पूरा का पूरा देश उनका हुआ। सभी देशवासी उनके हुए तो ऐसी स्थिति में किसी भी राज्य के साथ उनका भेदभाव उचित नहीं है।चाहे उन राज्यों में कोई भी दल सत्तासीन हो। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी संकट में सभी राज्यों के साथ समान लाड़ दुलार से वैक्सीनेशन ही नहीं बल्कि सभी नागरिकों को केंद्र की सभी योजनाओं का लाभ प्राप्त होना चाहिए। बिना किसी भेदभाव के कोरोना काल में काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मी, पुलिसकर्मी, राजस्व विभाग आदि सभी निर्बाध ड्यूटी कर रहे हैं। यदि उन्हें किसी प्रकार की जनहानि होती है तो उनके परिवार के लिए सरकारी सहायता उपलब्ध हो।

http://देश में कोरोना का सुधर रहे हालात लेकिन मौत के आंकड़ा ने बढ़ाई चिंता

हालांकि उक्त व्यक्ति की भरपाई किसी भी परिवार के लिए अपूरणीयक्षति है , किंतु मिलने वाली सहायता परिवार के लिए सांत्वना के बराबर जरूर है। देश सहित सभी राज्यों में कोरोना से मरने वाले की संख्या बहुत है किंतु निम्न व गरीब तबके के लोगों के साथ साथ मध्यम वर्गीय लोगों की भी मृत्यु हुई। जिनमें ऐसे लोग भी हैं जिनका पूरा परिवार मृतक पर आश्रित था। जिनकी मृत्यु के उपरांत परिवार की माली हालत अत्यंत निराशाजनक और अर्थविहीन हो गई है। ऐसे परिवारों को सरकारी मदद की नितांत आवश्यकता है। शिवसैनिक रविकांत तारक (सोनु दिवाना) ने मांग करते हुए कहा कि ऐसी स्थिति में केंद्र व राज्य की सरकारें पीड़ित परिवार की सुध लें व केंद्र और राज्य की आपदा प्रबंधन मद से आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत कर लाभान्वित करें।