छत्तीसगढ़: 24 घंटे में रिकॉर्ड 5818 मरीज मिले, 31 मौतें, सरकार की नींद उड़ी…लॉकडाउन को लेकर मंत्री ने क्या कहा आप भी जानिए?

रायपुर। छत्तीसगढ़ ( Chhattisgarh) में साल का सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट हुआ है. यहां कोराना संक्रमण (Corona Infection) के मामलों में आए जबर्दस्त उछाल के बाद सरकार की नींद उड़ गई है. स्वास्थ्य विभाग ( Health Department) की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार यहां बीते 24 घण्टे में रिकॉर्ड 5818 नए मरीज मिले हैं. इसके साथ ही 24 घंटे में 31 लोगों की मौत हुई है. छत्तीसगढ़ रायपुर में इस साल पहली बार दो हजार का आंकड़ा पार हो गया है. रायपुर में 2287 और दुर्ग में 857 मरीज मिले हैं. इन दो जिलों में ही सबसे अधिक मरीज मिल रहे हैं. जिसके बाद यहां प्रशासनिक अधिकारी अलर्ट हो गए हैं.

बीते 24 घंटों में 1172 लोग कोरोना संक्रमण से ठीक होकर बाहर आए हैं. इसके बाद यहां एक्टिव मरीजों की संख्या 36312 पर पहुंच गई है. छत्तीसगढ़ में कोरोना से अब तक 4283 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं अब तक 323201 मरीज रिकवर हो चुके हैं. कोरोना की बढ़ती रफ्तार को लेकर छत्तीसगढ़ में लगातार टेंशन बढ़ रही है.

मुसीबत बरकरार…अब रायपुर में शाम 6 बजे तक ही खुलेगी दुकान, नई गाइडलाइन जारी

स्वास्थ्य मंत्री ने जताई चिंता

शनिवार को रायपुर के सिविल लाइंस स्थित सर्किट हाउस में स्वास्थ्य मंत्री, सरकार के प्रवक्ता और कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, रायपुर के कलेक्टर, SSP, मेयर, स्वास्थ्य विभाग के आला अफसर मौजूद थे। सभी के चेहरों पर टेंशन साफ दिख रहा था। कुछ ही देर बाद बंद कमरे में एक बैठक हुई। बढ़ते संक्रमण पर क्या कुछ किया जा सकता है इस मुद्दे पर बात-चीत हुई। इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री मीडिया से मुखातिब हुए। सवालों के जवाब देते हुए प्रदेश में बढ़ते संक्रमण पर उन्होंने चिंता जाहिर की।

प्रदेश की हालात चिंताजनक

मंत्री ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि प्रदेश के लगभग सभी बड़े अस्पतालों में ICU के ऑक्सीजन बेड फुल हैं। उपलब्धता लगभग 0 है। उन्होंने कहा कि ICU काफी टाइट चल रहा है, उनको बढ़ाने की कोशिश चल रही है। ऐसी सर्जरी जो बाद में भी हो सकती हैं, अगर बेड उसमें लगे हैं तो ऐसे बेड कोरोना में इस्तेमाल करने की कोशिश हो रही है। जितना कर सकेगी सरकार उतना हम लोग प्रयास कर रहे हैं। रायपुर एम्स ने 200 से पौने 400 बेड अरेंज किए हैं, आर्युवेदिक कॉलेज में भी हम इंतजाम कर रहे हैं।

सरकार की हर पल नजर

TS सिंहदेव ने कहा कि रायपुर में अब कल 1400 से अधिक मरीज मिले हैं। ऐसे में हफ्ते का औसत देखें तो 10 हजार से अधिक मरीज मिल सकते हैं। तो हम इसके हिसाब से बंदोबस्त में लगे हैं। मानकर चलिए कि 70 प्रतिशत लोग होम आइसोलेशन में जाते हैं। बचे 3 हजार लोगों को अस्पताल में ऑक्सीजन बेड या कोविड केयर सेंटर में रखना होगा तो वो हम करेंगे।

सुपर संडे: जानिए आज किस राशियों पर सूर्यदेव की रहेगी कृपा, पढ़ें राशिफल

सिंहदेव ने मौतों के आंकडों और इन्हें छुपाए जाने के मुद्दे पर कहा कि सरकार ने ये माना है कि हर दिन औसतन करीब 30 संक्रमितों की मौत हो रही है। एक महीने में ये आंकड़ा 900 हो जाता है। ये चिंताजनक है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल मौत के आंकड़े छिपाने की बात कर रहे हैं, इस पर सिंहदेव ने कहा कि अगर कौशिक जी को सही आंकड़े पता है कि किसी की मौत कोरोना से हुई तो आकर सरकार को बताएं, इस पर राजनीति न करें। वो आंकड़े बताएंगे तो हम जोड़ लेंगे। पिछली बार हमने सैंकड़ों लोगों की जानकारी जोड़ी, ये पारदर्शिता के लिए किया गया।

टेस्टिंग किट की कमी पर बोले- यह हम बनाते नहीं बाजार से खरीदते हैं

टेस्टिंग किट की कमी पर स्वास्थ्य मंत्री ने कमी को कबूलते हुए जवाब दिया कि अगर टेस्टिंग किट ही नहीं होगी तो हम टेस्ट नहीं कर पाएंगे। मगर छत्तीसगढ़ राज्य टेस्टिंग किट तो नहीं बनाता न, हम बाजार से इसे खरीदते हैं। बाजार से ही हमें नहीं मिलेगा तो हम क्या करेंगे, लेकिन इसकी सप्लाय ठीक तरीके से हो, कई बार देखा गया है कि पेमेंट डीले होने से व्यवस्था बिगड़ती है, जल्द से जल्द पेमेंट को लेकर सुधार की जरुरत है।

वैक्सीनेशन और लॉकडाउन

लॉकडाउन को लेकर TS सिंहदेव ने कहा कि पिछली बार देश में काफी सख्त लॉकडाउन लगा था। लेकिन, जब लॉकडाउन खत्म हुआ तो संक्रमण फिर से बढ़ गया। तो कोरोना का संक्रमण लॉकडाउन से कम नहीं होता, कुछ समय के लिए जरूर इसका असर दिख सकता है मगर कोई लंबा फायदा इससे नहीं मिलता। हम वैक्सीनेशन का काम कर रहे हैं। विपक्ष के वैक्सीनेशन देर से करने का आरोप भी लगाया, इसके जवाब में मंत्री ने कहा कि वो लोग अधिक ज्ञानी हैं जो कह रहे मैंने देर की। पूरे देश में वैक्सीनेशन तय तारीख में शुरू हुई। हमने भी वैसा ही किया। इस समय 1 दिन का स्टॉक लेकर चल रहे हैं। जैसे-जैसे इस्तेमाल हो रही है दवा फिर और मिलेगी। अब ये केंद्र सरकार पर है कि जल्दी वैक्सीन मिले तो आगे हम लोगों तक पहुंचाएं।

 

Leave a Comment