CG: सीएम भूपेश कुर्सी बचा पाएंगे या नहीं अब आलाकमान के फैसले का इंतजार… मंत्री TS सिंहदेव ने भी आलाकमान पर छोडा फैसला

0
115
webmorcha.com
राजनितिक ड्रामा

रायपुर। छत्तीसगढ़ में लंबे समय से कांग्रेस में कुर्सी की लड़ाई हो रही है। दो दिन के दिल्ली प्रवास से लौटे सीएम समर्थकों ने बुधवार को हवाई अड्‌डे पर शक्ति प्रदर्शन किया था। सीएम भूपेश बघेल ने कहा, आलाकमान ने उन्हें सीएम की जिम्मेदारी दी है, यदि वे कहें तो यह पद त्याग कर देंगे। वहीं दिल्ली में जमे स्वास्थ्य मंत्री TS सिंहदेव ने भी फैसला आलाकमान पर ही छोड़ दिया है।

जानकारी के अनुसार, बुधवार को कांग्रेस के संगठन महासचिव KC वेणुगोपाल से भेंट के बाद TS सिंहदेव भी दिल्ली छोड़ने की तैयारी में थे। छत्तीसगढ़ के प्रभारी महासचिव PL पुनिया ने उन्हें एक और दिन के लिए रोक लिया। रात को उनकी कुछ वरिष्ठ नेताओं से भेंट हुई है। TS सिंहदेव आज दिल्ली से लौट रहे हैं, लेकिन वे छत्तीसगढ़ आने की जगह भोपाल जाएंगे। TS सिंहदेव और उनकी टीम को संकेत मिले हैं, कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी की ओर से समाधान पर चर्चा के लिए एक बार और बुलावा आएगा।

पार्टी सूत्रों के अनुसार, TS सिंहदेव ने इस बार केंद्रीय नेतृत्व के सामने स्पष्ट कर दिया है कि सरकार बनने के समय उनसे जो वादा किया गया था, उसे पूरा किया जाना चाहिए। इधर TS सिंहदेव खेमा खासा उत्साहित दिख रहा है। उन्हें उम्मीद है कि केंद्रीय नेतृत्व अंतत: उनकी बात मानेगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का कहना है, यह विवाद जितना देर टलेगा सरकार और अगले चुनाव में उतनी दिक्कतें खड़ी करेगा। केंद्रीय नेतृत्व को इसका तत्काल समाधान करना चाहिए। बहरहाल, सभी की निगाह सोनिया गांधी के फैसले पर टिकी हुई है। वह फैसला कब आता है और उसके क्या परिणाम होंगे यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

CG: क्या वाकई बदलने वाले हैं यहां के मुख्यमंत्री!…दिल्ली में घमासान जारी: रायपुर वापस लौट रहे हैं CM, सिंहदेव अभी दिल्ली में रुके

समर्थक-मंत्री social media में साझा कर रहे हैं CM का बयान

CM भूपेश बघेल के समर्थक आक्रामक हैं। वे सोशल मीडिया (social media) में CM का वह बयान साझा कर रहे हैं जिसमें उन्होंने कहा था, “ढाई-ढाई साल का राग अलापने वाले सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं, यह कभी सफल नहीं होगा।’ खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने कहा- जो लोग सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं वे समझ जाएं कि यह किसान, आदिवासियों और आमजन की सरकार है।

अधिकतर मिनिस्टर ने विवाद से दूरी बनाए

सरकार के अधिकतर मिनिस्टर और MLA इस विवाद में तटस्थ दिखने की कोशिश कर रहे हैं। कल मुख्यमंत्री के समर्थकों के शक्ति प्रदर्शन में भी केवल रविंद्र चौबे और अमरजीत भगत ही पहुंचे थे। वहां मौजूद MLA में कुलदीप जुनेजा, विनय जायसवाल जैसे कुछ चेहरे थे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम खुद वहां मौजूद नहीं रहे। इस संबंध में इन नेताओं ने social media पर भी चुप्पी साधे रखी है।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123