Chanakya Niti : इन चार शख्स के सामने कभी भी धन की बातें न करें… संकट में डाल सकता है आपको…

आचार्य चाणक्य (Chanakya) ने धन को जीवन के लिए बहुत जरूरी माना है और इसे सच्चा मित्र बताते हुए संचय करने की बात कही है. आचार्य (Chanakya) का मानना था कि अगर आपके पास धन है तो आप बड़ी से बड़ी चुनौती को भी आसानी से पार कर सकते हैं. लेकिन उन्होंने धन के बारे में बातों को गुप्त रखने के लिए भी कहा है. आचार्य (Chanakya) का मानना था कि धन की बातें हर एक के सामने नहीं करनी चाहिए. आचार्य ने चाणक्य (Chanakya) नीति में खासतौर पर चार लोगों के सामने धन और व्यापार से जुड़ी बातें कभी न करने की बात लिखी है, वर्ना आप संकट में पड़ सकते हैं. जानिए किसके सामने नहीं करनी चाहिए ये बातें.

लालची लोग :

आचार्य चाणक्य (Chanakya)  का कहना है लालची लोग की नियत का कोई ठिकाना नहीं होता. वो जहां भी जाता है हर चीज को लालच की निगाह से ही देखता है. ऐसे लोग आपको धोखा दे सकते हैं जिसकी वजह से आपका बड़ा नुकसान हो सकता है. इसलिए लालची लोगों के सामने धन और व्यापार की बातें कभी न करें.

ईर्ष्या करने वाले व्यक्ति :

आचार्य चाणक्य (Chanakya)  का कहना है जो व्यक्ति आपसे ईर्ष्या करता है, वो हर हाल में आपको नीचे गिराना चाहता है क्योंकि वो आपको खुश नहीं देख सकता. इसलिए ऐसे लोगों के सामने बहुत सतर्क रहें और धन और व्यापार की बातें न करें. वर्ना आपको बड़ा नुकसान भी हो सकता है.

चाणक्य नीति: मनुष्य को गरीबी के रास्ते पर ले जाती है ये चार बातें… उसकी ये आदतें, धीरे-धीरे कर देती है दरिद्रता

कारोबार में आपका प्रतियोगी :

आचार्य चाणक्य (Chanakya)  का कहना है व्यापार में जो व्यक्ति आपका प्रतियोगी है, यदि उसके सामने आप धन या व्यापार की बातें करते हैं, तो वो आपका अ​हित कर सकता है. साथ ही आपकी तमाम योजनाओं और गुप्त रणनीति को आप ही के खिलाफ प्रयोग कर सकता है.

भोले व्यक्ति:

आचार्य चाणक्य (Chanakya)  का कहना है कुछ लोग बहुत सीधे और भोले-भाले होते हैं. भोले लोगों को इस बात का अहसास नहीं होता है कि क्या बात किसके सामने कहनी है. ऐसे लोगों के सामने यदि आप धन और व्यापार की बातें करते हैं तो वो लोग आपकी गुप्त बातों को दूसरों से साझा कर सकते हैं. इससे आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है.

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/