Chanakya Niti : जिस मनुष्य की पत्नी में हैं ये तीन गुण, उसे समाज में मिलता है सम्मान

आचार्य चाणक्य (Chanakya) ने पुरुष, महिला, बच्चे और बुजुर्ग, हर प्राणी के बारे में अपने विचारों को साझा किया है. यदि व्यक्ति आचार्य चाणक्य की इन बातों पर गौर करे तो वो अपने लिए एक श्रेष्ठ जीवनसाथी, श्रेष्ठ मित्र आदि ऐसे कई रिश्तों का चुनाव आसानी से कर सकता है.

महान कूटनीतिज्ञ, राजनीतिज्ञ और अर्थशास्त्री के रूप में विख्यात आचार्य चाणक्य (Chanakya) ने अपने ग्रंथ चाणक्य नीति में पुरुष, स्त्री, बच्चे और बुजुर्ग, हर वर्ग के बारे में अपने विचारों को साझा किया है. उनके गुणों और अवगुणों के बारे में बताया है.

यदि व्यक्ति आचार्य चाणक्य (Chanakya) की इन बातों पर गौर करे तो उसे तरह-तरह के इंसानों को पहचानने में ज्यादा मुश्किल नहीं होगी और वो अपने लिए एक श्रेष्ठ जीवनसाथी, श्रेष्ठ मित्र आदि ऐसे तमाम रिश्तों का चुनाव कर सकता है जो उसके लिए हितकारी साबित हों. आचार्य चाणक्य ने स्त्रियों के तीन ऐसे गुणों का वर्णन किया है जो उसे श्रेष्ठ बनाते हैं. जिस भाग्यशाली व्यक्ति की पत्नी में ये गुण होते हैं, उन पुरुषों का बेड़ा बहुत आसानी से पार हो जाता है.

आपदा पर विजय पाने मान लें चाणक्य की ये काम की बातें, दुख नहीं आएंगे समीप

  • विनम्रता और दयालुता

जिस महिला में विनम्रता और दयालुता, ये दो गुण होते हैं, वो महिला खुद तो समाज में सम्मान पाती ही है, साथ ही अपने परिवार को भी सही दिशा देती है. वो परिवार के सभी रिश्तों को आपस में जोड़कर रखती है और बच्चों को बेहतर संस्कार देकर योग्य बनाती है.

  • धर्म का पालन करने वाली

जो स्त्री धर्म का पालन करने वाली होती है, वो सही और गलत का भेद अच्छी तरह से समझती है. ऐसी स्त्री का रुझान हमेशा सत्कर्मों की ओर होता है. वो कभी अपने कर्तव्यों से मुंह नहीं मोड़ती और सभी की भलाई के बारे में सोचती है. ऐसी स्त्री सिर्फ परिवार का ही नहीं बल्कि कई पीढ़ियों का कल्याण कर देती है.

  • धन का संचय करने वाली

आचार्य चाणक्य (Chanakya) ने धन को सच्चा मित्र बताया है. यही वो मित्र है जो बुरे समय में आपका साथ निभाता है. जिस स्त्री में धन के संचय करने की आदत होती है, वो पूरे परिवार की रक्षा करने वाली होती है. उसमें समय से पहले आने वाली परिस्थितियों का आकलन करने की क्षमता होती है. ऐसी स्त्री के होने पर व्यक्ति बड़े से बड़े संकट को भी आसानी से पार कर जाता है.

यहां पढ़ें: चाणक्य कहते हैं जो व्यक्ति दूसरों को नीचा दिखाता है, ऐसे व्यक्ति समाज में कभी मान-सम्मान नहीं पाता

यहां पढ़ें: Chaanaky neeti: आचार्य चाणक्य: इन पांच लोगों का भूलकर भी ना करें भरोसा, हो सकता है मुश्किल