छत्तीसगढ़: मर्डर के लिए 10 लाख की सुपारी, 2 कथित पत्रकारों समेत 11 गिरफ्तार

जांजगीर। प्रदेश के जांजगीर में सरपंच के बेटे की मर्डर के लिए 2 कथित पत्रकारों को 10 लाख रुपए की सुपारी दी गई थी। हसौद थाना पुलिस ने मंगलवार देर रात दोनों पत्रकारों समेत 11 लोगों को हिरासत में लिया है। इसमें महिला उपसरपंच भी मौजूद है। इन पर आरोप है कि इन्हीं लोगों ने मर्डर  की सुपारी दी थी। बताया जा रहा है दोनों पक्षों के बीच पंचायत चुनाव के समय से विवाद चल रहा था। पुलिस ने एक वेब पोर्टल के कथित पत्रकार से 2.4 लाख रुपए जब्त की है।

जानकारी के अनुसार, हसौद क्षेत्र की ग्राम पंचायत भाता माहुल से भगवान लाल चंद्रा वर्तमान में सरपंच हैं। उनके पंचायत के कामकाज को उनका बेटा विजय कुमार ही चंद्रा मॉनटरिंग करता। इसी पंचायत  से राजकुमारी चंद्रा उपसरपंच है। दोनों पक्षों में चुनाव को लेकर रंजिश चली आ रही है। आरोप है कि इसी रंजिश के चलते उपसरपंच राजकुमारी चंद्रा ने माल्दा निवासी वेब पोर्टल के कथित पत्रकार रणधीर कश्यप और एक अखबार के पत्रकार गोविंद चंद्रा को विजय की मर्डर करने के लिए सुपारी दी।

यहां पढ़ें: ओडिशा में जब्त 7 करोड़ 90 लाख के जाली नोट रायपुर में इंजीनियर ने किराए के भवन में रहकर की थी छपाई, देखिए जाली नेाट का वीडियो…

रिकार्डिंग के जरिए पुलिस आरोपियों तक पहुंची

मर्डर के लिए 5 लाख रुपए एडवांस दिए गए थे। हालांकि इससे पहले ही एसपी पारुल माथुर को इसकी खबर लग गई। उन्हें बातचीत की रिकॉर्डिंग उनके हाथ लगी। इसके बाद Police ने देर रात उपसरपंच राजकुमारी चंद्रा, उसके पति सुरेश चंद्रा एवं दोनों कथित पत्रकारों रणधीर कश्यप व गोविंद चंद्रा, सुशीला यादव, दो भाइयों श्यामलाल चंद्रा व शोभित चंद्रा, केशव चंद्रा, भरत चंद्रा, कौशल चंद्रा और सम्मेलाल जायसवाल को हिरासत में ले लिया है।

कथित पत्रकार ने विजय से किए थे 5 लाख रुपए की छिमांड

इस घटना में शामिल कथित पत्रकार रणधीर कश्यप ने मंगलवार को सरपंच के बेटे विजय वंद्रा को मिलने के लिए बुलाया था। इसके बाद उसे गाड़ी में बिठाकर अपने साथ ले गया। रास्ते में उसे मर्डर की सुपारी वाली बात बताई। साथ ही रणधीर ने कहा कि वे पहले ही उसे मार सकता था, लेकिन मित्र का मित्र होने के कारण छोड़ दिया। कहा, यदि वे 5 लाख रुपए दे दे तो नहीं मारेंगे। इस दौरान विजय ने अपने मोबाइल का रिकार्डर ऑन कर रखा था।

गरियाबंद के मासूम का तिरुपति मंदिर में अपहरण, छत्तीसगढ़ ने लिया संज्ञान

पहले भी कर चुके थे हमला

बातचीत की सभी रिकार्डिंग लेकर विजय शाम को ही एसपी पारूल माथुर से मिलने के लिए पहुंच गया। इसके बाद आरोपियों को पकड़ने के लिए टीम का गठन किया और सभी गिरफ्त में आ गए। एसपी माथुर के अनुसार, पंचायत चुनाव के समय से ही दोनों पक्षों में विवाद शुरू हो गया था। आरोप है कि उपसरपंच के साथियों ने चुनाव के समय मतदान दल पर हमला किया था। इसके लिए आरोपी जेल भी गए थे। यह मामला भी जैजैपुर कोर्ट में विचाराधीन है।

हमसे जुड़िए…

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

9617341438, 7879592500,  7804033123

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

Followthislink WhatsApp

https://chat.whatsapp.com/GifNpp6MKWgCY9B5vi7xNe

Leave a Comment