छत्तीसगढ़ में खुलेंगे कोचिंग सेंटर, नियम तोड़ने पर सील कर दी जाएगी कोचिंग

रायपुर.  ऑफलाइन एजुकेशन के अनलॉक होने की शुरुआत हो गयी है. राजधानी रायपुर में जिला प्रशासन ने कोचिंग सेंटर खोलने की अनुमति दे दी है. रायपुर के कलेक्टर सौरभ कुमार ने कोचिंग सेंटर खोलने को लेकर आदेश जारी किया है. कोरोनाकाल में तक ज्यादातर कोचिंग सेंटर ऑनलाइन मोड में ही चल रहे थे. लेकिन संचालकों की ओर से लगातार मांग की जा रही थी कि समिति छात्र संख्या के साथ सेंटर्स खोलने की अनुमति दी जाए.

प्रशासन ने कोचिंग खोलने संबंधी प्रोटोकॉल भी जारी किया है. जिसे मानना अनिवार्य है. कलेक्टर द्वारा जारी किये गये आदेश में स्पष्ट रूप से लिखा है कि कोचिंग क्लासेज क्षमता के 50 प्रतिशत और एक समय में अधिकतम 50 स्टूडेंट्स की सीमा के साथ रात 8 बजे तक चल सकती हैं. यानी कि जब 100 स्टूडेंट्स की क्लास लगती थी तो अब 50 स्टूडेंट्स ही क्लास में बैठ पायेंगे बाकी छात्रों को दूसरी क्लास में बुलाया जा सकेगा.

नियम तोड़ने पर सील कर दी जाएगी कोचिंग

कोचिंग क्लास के दौरान मास्क लगाने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का भी कड़ाई से पालन करना जरूरी होगा. जिला प्रशासन ने चेतावनी भी दी है कि अगर कोविड-19 के गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया तो जुर्माने के साथ 30 दिनों के लिए संबंधित संस्थान सील कर दिया जाएगा.

हालांकि स्कूल और कॉलेजों को खोलने के संबंध में अब तक कोई फैसला नहीं लिया गया है. लेकिन ओपन स्कूल और कॉलेजों में आंसर शीट जमा करने की छूट दी गयी है. कोचिंग सेंटर्स के खुलने से रायपुर में ऑफलाइन पढ़ाई शुरू हो जाएगी. उम्मीद की जा रही है कि स्कूल और कॉलेजों को लेकर भी आने वाले समय में कोई फैसला लिया जा सकता है.