पात्र हितग्राही जागरूक रहकर शासकीय योजनाओं का लाभ उठाएं: कलेक्टर सिंह

0
144

महासमुन्द। कलेक्टर डोमन सिंह ने आज जिले के पिथौरा विकासखण्ड के ग्राम कोदोपाली एवं भुरकोनी के ग्राम पंचायत भवन में चौपाल लगाकर राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के तहत पंजीयन कार्य के लिए आयोजित शिविर एवं अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों का सर्वेक्षण पंजीयन, सत्यापन कार्याें का निरीक्षण किया। उन्होने कहा कि राज्य शासन द्वारा सभी वर्गों के हितों के लिए विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही है। शासकीय अधिकारी-कर्मचारी एवं मैदानी अमले इन योजनाओं के बारें में नागरिकों को अधिक से अधिक जानकारी पहुंचाकर पात्र हितग्राहियों को लाभान्वित करें।

जिससे कि पात्र व्यक्ति जागरूक होकर इन योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ ले सकें। कलेक्टर ने कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के तहत पंजीकृत भूमिहीन कृषि मजदूरों और पौनी पसारी व्यवसाय से जुडे़ लोगों को सलाना 06 हजार रूपये की राशि अनुदान सहायता के रूप में दी जाएगी। इस हेतु उन्होने राज्य शासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार पात्र परिवारो का ही पंजीयन करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर उन्होने पंजीयन के लिए हितग्राहियों का आवश्यक दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, बैंक पासबुक के छायाप्रति के साथ आवेदन पत्र लेने की बात कहीं और हितग्राही परिवार को आवेदन पत्र की पावती प्रदान करने के लिए ग्राम पंचायत सचिव को निर्देश दिये।

निरीक्षण के दौरान उन्होंने कहा कि योजना के अंतर्गत कट ऑफ डेट (पात्रता दिनांक) 01 अप्रैल 2021 होगा। 01 अप्रैल 2021 की स्थिति में योजनांतर्गत निर्धारित पात्रता होनी चाहिए। योजना अंतर्गत पात्रता केवल छत्तीसगढ़ के मूल निवासियों को होगी। इस दौरान उन्होंने हितग्राहियों से आवेदन प्राप्त कर पंचायत में लिए जा रहें आवेदनों का निरीक्षण भी किया और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इसी प्रकार उन्होंने अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों का सर्वेक्षण पंजीयन, सत्यापन कार्याें का अवलोकन किया। उन्होंने बताया कि अन्य पिछड़ा वर्ग एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्गो के सर्वेक्षण का कार्य 01 सितम्बर 2021 से प्रारम्भ किया गया है।

ऑनलाईन पंजीकरण एवं डाटा संग्रहण व सत्यापन का कार्य 01 सितम्बर 2021 से 12 अक्टूबर 2021 तक किया जाएगा। इस कार्य को पारदर्शी तरीके से निर्धारित समयावधि पर पूरा करें। इस दौरान कलेक्टर ने उपस्थित ग्रामीणों से चर्चा कर राशन, बिजली, टीकाकरण, पेयजल, स्कूली बच्चों, मनरेगा, फसल क्षति सहित गोधन न्याय योजना के तहत् गोबर खरीदी के बारे में जानकारी ली। इस पर मेघनाथ यादव ने बताया कि वे विगत वर्ष लगभग 40 हजार रुपए का गोबर बेचें हैं। जिसकी राशि उन्हें मिल चुकी है। कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा कि कम से कम तीन दिन गोबर खरीदी का कार्य करें।

आर्थिक रूप से कमजोर पशुपालकों के द्वारा गोबर लाए जाने पर उन्हें प्राथमिकता से खरीदी करें तथा ग्रामीण क्षेत्रों में आवश्यकता अनुरूप मनरेगा के माध्यम से कार्य स्वीकृत कराएं। उन्होंने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत प्रत्येक घरों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो सके इसके लिए नल कनेक्शन लगाया जाएगा। यह कार्य दो माह के भीतर प्रारम्भ हो जाएगा। जिससे ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मिल सकेगा। महिलाओं ने कलेक्टर को बताया कि यहां कि महिला स्व-सहायता समूह की सदस्यों के द्वारा केक, बड़ी, आचार, वाशिंग पाउडर, फिनॉयल, साबुन, अगरबत्ती,

धूप सहित अन्य सामग्री तैयार की जाती है। इस पर कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा कि महिला स्व-सहायता समूह की सामग्रियों को आवश्यकतानुसार संबंधितों से खरीदी कराएं।  इस अवसर पर एसडीएम पिथौरा बी.एस. मरकाम, कृषि विभाग के उप संचालक एस.आर. डोंगरे, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता एस.एस. धकाते, जनपद सीईओ प्रदीप प्रधान सहित विकासखण्ड स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।