उपार्जित धान खराब होने पर लापरवाही हेतु कलेक्टर ने तीन समितियों के अधिकारियों को जारी किया नोटिस

कोण्डागांव। जिले में असमय हुई वर्षा से धान खरीदी केन्द्रों में उपार्जित धान को व्यवस्थित एवं सुरक्षित रख-रखाव को सुनिश्चित कराने हेतु कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा द्वारा जिले की सभी समितियों को इस  संबंध में निर्देश पूर्व में जारी किया गया था। कलेक्टर के निर्देशानुसार जिला खाद्य अधिकारी भूपेन्द्र मिश्रा द्वारा खाद्य विभाग के अमले के साथ जिले के उपार्जन केंद्रों का निरीक्षण किया जा रहा है। जिसके अनुसार शनिवार को वे दल सहित उपार्जन केन्द्र उरदाबेड़ा, अमरावती और चिपावंड पहुंचे।

http://वैज्ञानिकों का दावा: Covaxin से अधिक एंटीबॉडी बनाती है Covishield जानिए आप कौन सा लगाए

जहां उन्होंने खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में धान उपार्जन हेतु दिये गये दिशा-निर्देशों एवं जिला कार्यालय द्वारा समय-समय पर जारी किए गए निर्देशों का पालन नहीं किये जाते पाया। जिसके कारण उपार्जित धान असमय हुई वर्षा से भीगा एवं खराब होते पाया गया। जिसे देखते हुए कलेक्टर द्वारा लापरवाही पूर्वक कार्य करने एवं इस कारण शासकीय धान की हुई क्षति के लिए उरंदाबेड़ा, अमरावती और चिपावंड के समिति प्रबंधकों और खरीदी प्रभारियों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा गया है। इस जांच दल में जिला खाद्य अधिकारी  के नेतृत्व सहायक खाद्य अधिकारी राबिया खान ,खाद्य निरीक्षक नवीनचंद श्रीवास्तव, हितेशदास मानिकपुरी,  गुलशन नंद ठाकुर, एवं मनीराम बघेल भी शामिल रहे।