फिर डराने लगे कोरोना…छत्तीसगढ़ 3 स्कूलों में 11 बच्चे मिले संक्रमित, भारत में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को अधिक नुकसान होने का

0
64
webmorcha.com
covi

रायपुर। छत्तीसगढ़ में स्कूल खुलते ही बच्चों के संक्रमित होने का आंकड़ा बढ़ने लगा है। अब जांजगीर के 3 स्कूलों में 11 बच्चे संक्रमित मिले हैं। मामला सामने आने पर स्कूलों को सैनिटाइज कराया जा रहा है। वहीं बच्चों के कांटेक्ट में आए लोगों की भी ट्रेसिंग हो रही है। कलेक्टर ने तीनों स्कूलों को 7 दिन के लिए बंद कर दिया है। प्रदेश में 7 दिन के दौरान 43 छात्र-छात्राएं पॉजिटिव मिल चुके हैं। बिरगहनी स्थित हाई स्कूल में 6, बलौदा के सरस्वती में शिशु मंदिर में 2 और उच्चभट्टी ग्राम के मिडिल स्कूल में 3 बच्चे संक्रमित हुए हैं। इन बच्चों की तबीयत बिगड़ने के बाद जांच की गई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद स्कूल प्रबंधन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में सूचना प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को दी गई। इसके बाद स्कूलों को 7 दिन के लिए बंद करने का आदेश दिया गया है।

कलेक्टर ने बच्चों के संपर्क में आए सभी अन्य छात्रों, पैरेंट्स और शिक्षकों की भी जांच के निर्देश दिए हैं। जिला शिक्षा अधिकारी को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। साथ ही कहा गया है कि स्कूलों की लगातार निगरानी रखें। लक्षण दिखाई देने पर बच्चे को स्कूल में प्रवेश नहीं देना है। शासन के निर्देशों का पालन करें। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में 100% वैक्सीनेशन के लिए कैंप लगाने के निर्देश दिए गए हैं।

NASA की डराने वाली खबर: ग्लेशियर पिघलने से इंडिया के 12 शहर 3 फीट तक पानी में डूब जाएंगे, मैदानी क्षेत्रों में भी तबाही आएगी

यहां शुरू हुई कोरोना की तीसरी लहर

भारत में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को अधिक नुकसान होने का अनुमान है। वहीं, अमेरिका व ब्रिटेन में बच्चों में संक्रमण के मामले पहले की दो लहर की तुलना में बढ़ गए हैं, जो हमारे लिए खतरे का संकेत हो सकता है। अलबामा, अरकंसास, लुसियाना व फ्लोरिडा में 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं। अरकंसास के चिल्ड्रेन अस्पताल में संक्रमण से भर्ती होने वाले बच्चों की दर में 50 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। सात नवजात आईसीयू में तो दो वेंटिलेटर पर जिंदगी से जंग लड़ रहे हैं।

लुसियाना में जुलाई के आखिरी सप्ताह में सर्वाधिक 4232 बच्चों में संक्रमण मिला है। यहां 15 से 21 जुलाई के बीच पांच साल से कम उम्र के 66 बच्चों में वायरस मिला है।  ब्रिटेन में हर दिन औसतन 40 बच्चे अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। वहीं फ्लोरिडा के स्वास्थ्य विभाग ने बताया है कि 12 वर्ष से कम उम्र के 10,785 मामले सामने आए थे। 12 से 19 वर्ष के 11,048 बच्चों में संक्रमण मिला है। 23 से 30 जुलाई के बीच 224 बच्चों को भर्ती कराया गया है। भारत में भी पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में बच्चे अधिक संक्रमित हुए हैं। संदेह है कि वायरस इस बार बच्चों को अपना शिकार बना सकता है।

कोरोना से बच्चों को खतरा कम नहीं हुआ

अमेरिका में 2020 में बच्चों की मौत का प्रमुख कारण कोरोना था। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के बाल रोग विशेषज्ञ प्रो. एडम फिन्न बताते हैं कि बच्चों में कोरोना  संक्रमण का खतरा कम नहीं हुआ है। मेरे साथी बताते हैं कि वे अस्पताल में संक्रमित बच्चों को देख रहे हैं लेकिन संख्या ज्यादा है। इससे स्पष्ट है बीमारी के मामले में ये लहर पहले की दो लहर की तुलना में थोड़ी अलग है।

बच्चों को हर हाल में लगे टीका

इंपीरियल कॉलेज लंदन की पीडियाट्रिक इंफेक्सियश डिसीज विशेषज्ञ डॉ. एलिजाबेथ व्हिटकर का कहना है कि अमेरिका व ब्रिटेन में 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में संक्रमण दर बढ़ी है। इनमें अधिकतर बच्चे ऐसे हैं जिन्हें टीका नहीं लगा है। ऐसे में बच्चों को हर हाल में टीका लगाना होगा।

मोटे बच्चों के लिए कठिन समय

विशेषज्ञों का कहना है कि मोटे व मधुमेह से ग्रसित बच्चों के लिए ये कठिन समय है। संक्रमण के मामले अचानक बढ़ने लगे हैं। अमेरिका में बच्चों में पीडियाट्रिक इन्फलैमेट्री मल्टी सिस्टम सिंड्रोम (पीआाईएमएस) के मामले बढ़ रहे हैं जिसका समय पर इलाज न हो तो बच्चों की जान खतरे में पड़ सकती है।

पीआईएमएस पीडि़त बच्चों को पहचानें

अमेरिका के सीडीसी की निदेशक प्रो. रोशेल वैलेंस्की के अनुसार कोरोना संक्रमण के तीन से चार सप्ताह बाद बच्चों को पीआईएमएस की चपेट में आने का खतरा रहता है। बच्चे को कई दिन तक तेज बुखार, पेट में दर्द, डायरिया, उल्टी, त्वचा पर चकत्ते लाल आंखें व हाथ-पैर का ठंडा होने जैसे लक्षण दिखते हैं।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123