Wednesday, January 20, 2021
Home Web Morcha कोरोना का नया रूप मस्तिष्क पर कर रहा प्रभाव 'कोविड साइकोसिस' की...

कोरोना का नया रूप मस्तिष्क पर कर रहा प्रभाव 'कोविड साइकोसिस' की पुष्टि

न्यूयॉर्क टाइम्स न्यूज सर्विस, वाशिंगटन। भारत सहित वर्ल्ड के कई देशों में कोरोना के नए रूप मिल चुका है। इसी बीच कोरोना संक्रमित में बेहद ही गंभीर मानसिकता रोग (कोविड साइकोसिस) का पता चला है। अमेरिका और ब्रिटेन सहित दुनिया के कई देशों में साइकोटिक लक्षण वाले मरीज मिले हैं।
इस नए संक्रमण से ऐसे मरीजों को अचानक सुनाई देता है कि उन्हें खुद को मारना है, तो कभी अपने बच्चों को मारने के लिए कोई कहता हुआ सुनाई देता है। अमेरिका के मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हिसाम विली का कहना है कि कोरोना संक्रमण के बाद ऐसे मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है।
ब्रिटेन में हुए एक अध्ययन से पता चला है कि कोरोना के 153 मरीजों में से 10 मरीजों में नए तरह के साइकोसिस की शुरुआत देखी गई है। मानसिक और मस्तिष्क रोग विशेषज्ञ अब यह जरूर कहने लगे हैं कि कोरोना शारीरिक स्वास्थ्य के साथ मानसिक और मस्तिष्क के स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है। इससे कोरोना के गंभीर मरीजों में बड़बड़ाने या भूलने जैसी तकलीफों की पुष्टि हो चुकी थी। इसकी तुलना में यह तकलीफ और अधिक गंभीर है।
यहां पढ़ें: बाबा वेंगा का 2021 में डराने वाला भविष्यवाणी, जानिए 3005 तक कब, कैसे, कहां क्या होगा

बहुत गंभीर मानसिक तकलीफ

डॉक्टर विली के अनुसार, जिन मरीजों का उपचार उनको सिर में दर्द, हाथ में कंपन, चक्कर और स्वाद लेने की क्षमता प्रभावित थी। जो न्यूरो संबंधी तकलीफ है। ऐसे मरीजों में मनोविकृति की तकलीफ दो हफ्ता या महीनों बाद विकसित होना शुरू हुई जो बेहद ही गंभीर है और उनके आसपास रहने वाले लोगों के लिए डरावना।

मस्तिष्क तक खराब तत्व पहुंचने से ऐसा संभव

कोरोना मरीजों में मस्तिष्क संबंधी तकलीफ होने के कई कारण हो सकते हैं। ऐसा रक्त वाहिकाओं में संकुचन और सूजन की तकलीफ ज्यादा होने से हो सकता है। कुछ विशेष तरह के न्यूरोटॉक्सिन्स (खराब तत्व) मस्तिष्क तक रक्त के जरिए पहुंच कर भी ऐसी तकलीफ को जन्म दे सकते हैं।
यहां पढ़ें: Ajab Gajab News: सनकी तानाशाह, यहां नीली जींस पहनने पर देता है खौफनाक सजा, पॉर्न देखना गुनाह

पहला स्टडी

न्यूयॉर्क की 42 साल महिला में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। महिला को अचानक से गंभीर मानसिक तकलीफ शुरू हो गई जबकि इससे पहले उसे कोई तकलीफ नहीं थी। डॉक्टरों को उसने बताया कि कोई उसके 2 और 10 साल के बच्चे को मारना चाहता है। इस कारण वह खुद भी मरने की योजना बना रही है।

दूसरा स्टडी

न्यूयॉर्क के 30 साल एक कंस्ट्रक्शन कामगार को कोरोना संक्रमण के बाद भ्रम हो गया कि उसके चचेरे भाई उसकी हत्या कर देंगे। मरीज ने चिकित्सकों को बताया कि वह चचेरे भाई से बचने के लिए बिस्तर पर उसका गला दबा सकता है। पहले केस की तरह ही इस मरीज को भी संक्रमण से पहले कोई मानसिक बीमारी नहीं थी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -webmorcha.com webmorcha.com

Most Popular

Recent Comments