भ्रष्टचार: ADG सिंह का बेशुमार दौलत: संपत्ति, वाहनों, बैंक खाता, बीमा पॉलिसियों की तादाद देखकर हैरान रह गई टीम

रायपुर। छत्तीसगढ़ आईपीएस GP सिंह के 50 घंटे से चल रही छापामार कार्रवाई अभी तक जारी है। एंटीकरप्शन ब्यूरो और ED की टीम ने गुरुवार सुबह 6 बजे से रायपुर स्थित GP सिंह के बंगले समेत कई शहरों में उनके 15 जगहों पर छापा मारा था। GP सिंह इससे पहले खुद एंटी करप्शन ब्यूरो के चीफ रह चुके हैं। उनके खिलाफ भ्रष्टाचार और काली कमाई की लगातार शिकायतों के बाद प्रशासन ने यह छापामार कार्रवाई की थी। शुक्रवार रात एंटीकरप्शन ब्यूरो की तरफ से जारी किए मीडिय प्रेस नोट में बताया कि 40 घंटों में जो जांच टीम ने वहां की है। उसमें अभी तक पांच करोड़ रुपए की संपत्ति का आंकलन किया गया है। टीम का कहना है कि यह रकम, संपत्ति का प्रारंभिक आंकलन हैं। जैसे जैसे जांच बढ़ेगी यह राशि भी बढ़ेगी।

75 से ज्यादा बीमा पॉलिसी

जांच कर रहे टीम जब वहां पहुंची तो संपत्ति, वाहनों, बैंक खाता, बीमा पॉलिसियों की संख्या देखकर हैरान रह गई। 75 से ज्यादा बीमा पॉलिसी सिंह, उनकी धर्मपत्नी और उनके पुत्र के नाम पर मिली है। इसकी संख्या बढ़ सकती है। इन पॉलिसी के प्रीमियम के रूप में ही लाखों रुपए सालाना बीमा कंपनियों को दिए जाते हैं। टीम बीमा कंपनी से प्रिमियम का हिसाब ले रही है।

बैंकों में बेहिसाब राशि और खाते, कई भवन, जमीनें

जांच टीम को बैंकों और डाकघर में अलग-अलग कई खाते इस परिवार के नाम पर मिले हैं । इसके साथ ही डेढ़ करोड रुपए के म्यूच्यूअल फंड और शेयर के इन्वेस्टमेंट के कागज मिले हैं । म्यूच्यूअल फंड्स और शेयर के दस्तावेज की गणना शुरू है, सिर्फ इन्हीं की राशि कई करोड़ रुपए तक पहुंच सकती है। वाहनों के कागजात भी मिल हैं। इसमें कंस्ट्रक्शन से जुड़े वाहन, मिक्सर मशीन, ट्रक व अन्य उपकरण हैं।

अभी तक 75 लाख रुपए के वाहनों की जानकारी पुख्ता टीम को हुई है। छत्तीसगढ़, ओडिशा सा सहित अन्य राज्यों में भी GP सिंह ने जमीन, फ्लैट, मकान में बड़ी राशि का निवेश किया है। इसका आकलन भी किया जा रहा है । ACB  टीम को कुछ बैंक अकाउंट की जानकारी अभी प्रारंभिक तौर पर मिली है उसमें 1 करोड़ रुपए जमा है। यह अकाउंट GP सिंह और उनके निकट परिजनों के नाम पर हैं। जांच टीम का कहना है कि अकाउंट की संख्या और उसमें जमा राशि जैसे-जैसे गणना पूरी होगी बढ़ती जाएगी।

ये है छत्तीसगढ़ का भ्रष्ट अफसर….ACB चीफ रहने के दौरान ADG जीपी सिंह ने ब्लैकमेल कर करोड़ों कमाए, मनी लॉन्ड्रिंग और Odisha में बेनामी संपत्ति के सबूत मिले

लोगों से पूछताछ जारी

GP सिंह के साथ काम कर रहे Police अधिकारियों, उनके मित्रों, रिश्तेदारों से लगातार पूछताछ जारी है। जांच टीम का कहना है कि आज भी कई ऐसे लोगों से पूछताछ की गई है जो लगातार GP सिंह के संपर्क में थे और जिनके साथ सिंह के व्यवसायिक संबंध हो सकते हैं। इनसे पूछताछ के बाद कुछ नए तथ्य सामने आए हैं और कुछ और जानकारियां मिली है। उसके अनुसार, छापामार कार्रवाई और जांच जारी रहेगी जिससे कुछ चौंकाने वाले तथ्य भी मिल सकते हैं।

गायब कर दिया CCTV का DVR

GP सिंह के बंगले में चारों तरफ पीसी टीवी कैमरे लगे हुए हैं। इन कैमरों के रिकॉर्डिंग की जो DVR मशीन होती है उसे गायब कर दिया गया है। पुलिस कल से ही CCTV के डीवीआर की तलाश कर रही है लेकिन अभी तक उसे सफलता नहीं मिल पाई है। ACB के अधिकारियों का मानना है कि CCTV फुटेज में जरूर कुछ ऐसे लोगों का सिंह के बंगले में आना जाना रिकॉर्ड हुआ है जो नहीं चाहते कि उनका संबंध GPS से निकले। साथ ही इन कैमरों में कुछ लेनदेन के विजुअल भी होंगे। साजिश में शामिल लोगों के चेहरे सामने ना आ पाए इसलिए इस DVR को गायब कर दिया गया है। इसे लेकर GP सिंह और उनके परिवार के सदस्यों, स्टाफ से भी पूछताछ की जा रही है।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn