बस्तरमध्यप्रदेश

ड्रिप सिंचाई पद्धति और शेड नेट फार्मिंग तरीके से खेती कर लक्ष्मी प्रसाद पर बरस रही धनलक्ष्मी

नारायणपुर। परंपरागत फसलों के मुकाबले सब्जी वाली फसलें हमेशा से ही ज्यादा मुनाफा देने वाली होती है। अगर इन्हें वैज्ञानिक और उन्नत तरीक से उगाया जाए तो यह अच्छा मुनाफा देती है। इसके लिए जरूरी है मेहनत, जोखिम उठाना और सही जानकारियां मिलना। राज्य सरकार ने किसानों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का संचालन कर उनका यह काम आसान कर दिया।

लक्ष्मी की मेहनत रंग लाई

  • लक्ष्मी की मेहतन रंग लाने लगी जैसे-जैसे भिंडी और बरबटी के पौधे बढ़ते जा रहे थे, खेत भी सलीकेदार और खूबसूरत दिखने लगा।
  • बरबटी और भिंडी इतने सलीके से लगायी गई थी, इस की चर्चा आस-पास के इलाके में होने लगी।
  • सड़क किनारे होने के कारण राहगीरों की भी नजरे बरबस उस और चली जाती है।
  • विभिन्न वनोउपज के लिए मशहूर नारायणपुर के नजदीक देवगांव के किसान लक्ष्मी प्रसाद देवांगन ने राज्य सरकार की योजनाओं का भरपूर फायदा उठाते हुए ड्रिप मल्चिंग और शेड नेट फार्मिंग कर सब्जी की खेती कर रहे है।
  • पहले से लगभग तीन गुना लाभ ले रहे हैं। उनकी उगाई गई सब्जियों दूर-दराज इलाकों तक जा रही है।

किसान को हो रहा भरपूर फायदा

  • लोग उनकी बाड़ी में स्वयं आकर सब्जियां ले जा रहे है। अभी उन्होंने भिंडी, करेला और बरबटी उगाई। जिसमें उन्हें भरपूर फायदा हुआ।
  • लक्ष्मी प्रसाद ने जानकारी देते हुए बताया कि अब तक लगभग 70 हजार रुपए की बरबटी बेच चुके है।
  • वहीं भिंडी के बीज में कुछ कमी होने के कारण उतना फायदा नहीं हुआ जितना हो चाहिए।
  • लेकिन घाटा नहीं हुआ। पहले के मुकाबले अब ज्यादा फायदा हो रहा है।
  • सड़क किनारे होने के कारण लोक जिज्ञासावश रूक कर जानकारी लेते है और मुझे भी सरकारी योजनाओं की भी जानकारी देते हैं।
  • जिनका मैं भरपूर फायदा ले रहा हूं।
  • उनके सामने ही स्थित खेत में उनके चचेरे भाई रमेश देवांगन भी इसी व्यवस्था से खेती कर रहे है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button