एजुकेशन/हेल्थ/रोमांसमहासमुन्द

आठ साल सेवा पूर्ण करने वाले शिक्षकों के संविलियन के लिए शनिवार से पांचों विकासखंड में आयोजित होंगें शिविर

महासमुंद। छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग के आदेशानुसार आठ वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके शिक्षक (पंचायत/नगरीय निकाय) संवर्ग का स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन किया गया है। संविलियन किए गए शिक्षकों का वेतन जुलाई 2018 से स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा दिया जाना है।

/http://सिरफिरे आशिक ने युवती को कमरे में बनाया बंधक, छुड़ाने पहुंचे पुलिस पर कैची से 

इस संबंध में जिला कलेक्टर  हिमशिखर गुप्ता द्वारा डिप्टी कलेक्टर, तहसीलदार, जिला शिक्षा अधिकारी, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत एवं कोषालय अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि पात्रतानुसार संविलियन होने वाले शिक्षक को ईम्प्लाई कोड तथा जिनका प्रान नंबर आबंटित नहीं है, उसे प्रान नम्बर आबंटित करने की कार्यवाही तत्काल करें।

यहां पढ़े: http://किसानों के कर्ज माफ सहित विभिन्न मांगों को लेकर कांग्रेस ने तहसील परिसर का किया घेराव

चरणबद्ध होंगे कार्य का संपादन

इस कार्य को त्वरित गति से संपादित करने हेतु विभिन्न स्तर पर समय सीमा में चरणबद्ध ढंग से कार्य का संपादन करने के लिए 14 जुलाई एवं 15 जुलाई 2018 को महासमुंद जिले के विकासखण्ड महासमुंद, सरायपाली, बसना, पिथौरा एवं बागबाहरा में शिविर का आयोजन किया जाएगा।

यहां पढ़े: http://27-28 जुलाई को शताब्‍दी का सबसे लंबा संपूर्ण चन्‍द्रग्रहण मंगल और सूर्य एक दूसरे के आमने-सामने होंगे

उल्लेखनीय है कि महासमुंद जिले में आठ वर्ष सेवा पूर्ण करने वाले की संख्या लगभग 4 हजार 561 है, जिसमें से 105 का प्रान नंबर भी आबंटित किया जाना है। शिविर से पूर्व संबंधित शिक्षकों को आवश्यक प्रपत्र उपलब्ध कराई कराया गया है,

यहां पढ़े: http://कल्पेश जी ने कहा मेहनत, सपना, लगन, होगा, होने वाली है ऐसी बाते अब अखवारों के लिए बेमतलब

जिसे सावधानी पूर्वक पूर्ण कर शिविर में उपलब्ध करावेंगें ताकि शीघ्रातीशिघ्र उन्हें ईम्प्लाई कोड तथा प्रान नंबर आबंटन की कार्रवाई किया जा सके और शासन के मंशानुरूप समय पर माह जुलाई का वेतन के भुगतान की कार्रवाई की जा सके।

http://रायपुर के 402 तो महासमुंद के 15 वार्ड के लोग पी रहे दूषित पानी मितानिनों की जांच में खुलासा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button