सहकारी समितियों के कर्मचारियों ने नियमितीकरण और वेतन अनुदान की मांग को लेकर दिया धरना

खल्लारी। बिन सहकार नही उद्धार के गूंजते नारों के साथ गत दिनों प्रांतीय सहकारी समिति कर्मचारी संघ रायपुर के आह्वान् में प्रदेश के 1333 सहकारी समितियों के कर्मचारियों ने नियमितीकरण एवं वेतन अनुदान की मांग को लेकर ईदगाह भाठा रायपुर में धरना-प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

बागबाहरा के सैकड़ों कर्मचारी भी जुटे रहे

यहां पढ़िए… लाठीचार्ज पर पुलिस ने क्या कहा

  • धरना एवं रैली में बागबाहरा, कोमाखान बैंक शाखा के 18 समितियों के सैकड़ों कर्मचारी शामिल थे।
  • सहायक समिति प्रबन्धक, लिपिक, विक्रेता, कम्प्यूटर आपरेटर, प्रो सेसर्वर, चपरासी
  • चौकीदार
  • कर्मचारी संघ के बागबाहरा के अध्यक्ष जयप्रकाश साहू के नेतृत्व में शामिल हुए।
  • उल्लेखनीय है कि इन समितियों में कर्मचारी लम्बे अर्से से काफी कम वेतन पर काम करते आ रहे हैं।
  • इन कर्मचारियों द्वारा समर्थन मूल्य धान खरीदी, खाद बीज वितरण, केसीसी वितरण,
  • सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत चावल वितरण, बचत बैंक, माइक्रो ए टी एम कार्यों का संचालन किया जाता रहा है।

कम वेतन और भुगतान भी हर माह नहीं

यहां पढ़िए: पुलिस की बबर्रता जनता द्वारा चुने गए विधायक

  • जानकारी के मुताबिक इन कर्मचारियों का मासिक वेतन महज 4500 से 13500 रुपए तक है।
    जिनका भुगतान भी हर महीने नहीं हो पाता।
  • बागबाहरा अध्यक्ष जयप्रकाश साहू के मुताबिक कई समितियों के कर्मचारियों को माह अप्रैल मई 2018 का भी वेतन नसीब नही हुआ है।
  • ऐसी परिस्थितियों में कर्मचारियों का घर चलाना मुश्किल हो रहा है। उन्हें अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है।
  • जिसके चलते अब इन्होंने अपनी मांग पूरी नही होने की स्थिति में 2 जुलाई 2018 से प्रदेश व्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी शासन प्रसाशन को दे दी है।
  • इनके हड़ताल पर चले जाने से किसानों को मिलने वाली केसीसी लोन, खाद बीज, दवाई एवं उचित मूल्य की दुकानें माइक्रो एटीएम जैसी किसानों की सुविधाएं प्रभावित होगी।

Leave a Comment

Kiara Advani पहुंचीं सूर्यगढ़ पैलेस Glowing Skin के लिए ट्राई करें Shraddha arya का स्किन रूटीन Anupamaa: जन्मदिन पार्टी में अनुपमा और अनुज हुए रोमांटिक, माया नहीं बल्कि असली मां की हुई एंट्री आपके जूते बताते हैं आपका स्वभाव! शनि का उदय, इन राशियों की होगी बल्ले-बल्ले