कोरोना महामारी और आंधी-तूफान से किसान परेशान किसानों को अंतर के राशि एक क़िस्त भुगतान करे सरकार:-शिवसेना 

अभनपुर। छत्तीसगढ़ शिवसेना के शिवसैनिक रविकांत तारक (सोनु दिवाना) फिर एक बार अपने जबदस्त रोकठोक अन्दाज में प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा अपने रोकठोक अंदाज एव कड़े शब्दों में राज्य सरकार से कहा कि कोरोना महामारी और ओलावृष्टि आंधी तूफान से किसान परेशान है एक क़िस्त में दिया जाए किसानों को उनकी धान की अंतर राशि रोकठोक अंदाज में रविकांत तारक (सोनु दिवाना) ने कहा कि चुनाव के समय राजनीतिक पार्टियां किसानों के लिए बड़े बड़े वायदे कर राजनीतिक पार्टियां सरकार तो बना लेती है पर सरकार बनते ही वायदे पर ध्यान नही दिया जाता है चाहे सरकार किसी की भी के हो भुगतना किसानों को पड़ता किसानों से झूठा वादा करके ही सरकार बनाते आए हैं,

http://कोरोना के शिकार मृतकों के परिवार वालो के लिए आर्थिक सहायता स्वीकृत करे केंद्र व राज्य सरकार : शिवसेना

शिवसैनिक रविकांत तारक (सोनु दिवाना) ने आगे कहा कि राज्य के धान और सब्जी उत्पादक किसान इस साल अभी हाल ही में हुई  बेमौसम बारिश आंधी तूफान का सामना कर रहे हैं और ओलावृष्टि ने तो फसलों को क्षति पहुंचाई है बल्कि किसानों के सपनो पर भी पानी फेर दिया है और कोरोना महामारी की वजह से पूरा विश्व परेशान उनके साथ किसानों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहे है ऐसे में किसान त्रस्त है ऐसे विकट समय मे किसानों को अंतर की राशि अलग अलग किस्तों में भुगतान करना उचित नही है राज्य सरकार को ऐसे समय मे  किसानहित मे फैसला लेते हुए एक मुश्त में किसानों को अंतर राशि दिया जाना चाहिए किसानों को उनकी अन्तर की राशि एक मुश्त में मिल जाए तो किसानों पर बड़ी कृपा होगी

http://वैक्सीनेशन चक्कर से मिलेगी मुक्ति, भूपेश सरकार आज लॉन्च कर रही “सीजी टीका” एप

रविकांत तारक (सोनु दिवाना) ने बताया कि बड़े बड़े वादे करके सरकार बनाने के बाद राज्य सरकार विधानसभा चुनाव में जिस तरह से जोश खरोस से घोषणा की है उनके अनुरूप है क्योंकि विधानसभा चुनाव के समय किसानों से वादे करते समय ये कहा गया था कि प्रति क्विंटल के हिसाब से किसानों को 2500 राशि देंगे इस राशि को किश्तों में देने का बात या वादे नही किया गया था इसलिए राज्य सरकार को एक मुश्त में किसानों के अंतर की राशि दिया जाए रविकांत तारक (सोनु दिवाना) ने रोकठोक शब्दो मे राज्य सरकार को प्रेस  के माध्यम से बताया कि आज कोरोना महामारी से किसान परेशान हैं उन्हें पैसो का सख्त जरूरत है और किसानों को चार किश्त की राशि एक साथ देते  तब किसानों का भला होता