महासमुन्दमेरा गांव मेरा शहर

जानिए: किस झोंपड़ी के छप्पर में रुपए डालने से निकलती है जेबरा शराब

आंखों देखी- दिलीप शर्मा

जी-हां महासमुंद जिले के एक गांव में खुलेआम शराब बेची जाती है। इस गांव में पुलिस का खौफ नहीं है। खुलेआम शराब मिलने के कारण यहां शाम होते ही इस गांव मेला लग जाती है। बतादें कि इस गांव से पुलिस थाना की दूरी महज 4 किमी है। शराब बेचने का तरीका भी यहां हटकर है। कोमाखान थाना के गांव भिलाईदादर में सड़क किनारे स्थित एक बाहर से ताला लगे हुए झोपड़ी के भीतर छप्पर की ओर रुपए लेते हैं और एक छोटा (छेदनुमा) खिड़की से ओडिशा ब्रांड जेबरा की शराब मिलती है। इस अवैध दुकान के आसपास कई चखना सेंटर भी लगती है। लेकिन अब तक पुलिस और अबकारी को कैसे पता नहीं चल पाई यह चौकाने वाली है?

यहां पढ़े: http://पहली बार जिले में विजयपाल ब्रांड शाराब जब्त, खल्लारी पुलिस ने दो को किया गिराफ्तार

शुक्रवार की रात साढे 8 बजे जब इस रोड को क्रास किए तो यहां भीड़ लगी थी। एक जगह वह भी अलग-अलग गुटों में बंटे हुए थे। पता चला कि यहां तो सब शराब पी रहे हैं। दुकान के नजदीक गया, तो पता चला यहां शराब बिक रही है। बकायदा आसपास के कुछ जगहों पर चखना सेंटर संचालित है।

मदिरा-प्रेमियों का दिलचस्प जवाब

मदिरा-प्रेमियों ने बताया ओड़िशा शराब पाउच जेबरा की मूल्य 20 रुपए है, लेकिन उन्हें 50 रुपए में लेते हैं। हालांकि मदिराप्रेमियों ने कहा भले ही ज्यादा रेट हो लेकिन 24 घंटे शराब उपलब्ध है ये ठीक है, इसलिए कि सरकारी शराब खरीदने के लिए उन्हें 20 से 25 किमी दूर जाना पड़ता है। ग्रामीणों ने बताया कि इस अवैध शराब दुकान में रोजाना एक से डेढ़ लाख की शराब बिकती है। जबकि उसी क्षेत्र में संचालित मुनगासेर सरकारी शराब दुकान 50 से 70 हजार रुपए की बिक्री है।

ऐसे झोपड़ी के छप्पर से लेते हैं शराब

http://पत्रकारों को सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए मिला भवन, लोकार्पण कल

क्या कहा जिम्मेदार अफसर ने और कैसे हुई कार्रवाई

बागबाहरा एसडीओपी रूपेश तांडे ने कहा अभी तक भिलाईदादर में इस तरह शराब बिकने की सूचना नहीं मिली है। अगर इस तरह से शराब बिक रही है, तो तत्काल रेड किया जाएगा। हम आपकों कुछ ही देर में इसका रिजल्ट एक घंटे के भीतर दे देंगे।

अलर्ट विक्रेता तक सूचना हुई लिक

जिनकी फोटों है उनका नाम और पहचान भी वेबमोर्चा डॉट कॉम के पास मौजूद है, साथ ही इस वक्त भी बेवमोर्चा रिपोर्टर मौके पर मौजूद है। उन्होंंने 7 बजकर 35 मिनट में बताया कि जो झोपड़ी कई दिनों से बंद था वह आज शाम को गेट खोल दिया, साथ यहां शराब भी नहीं मिल रहा है। आश्चर्य है पुलिस 1 घंटे 35 मिनट के बाद नहीं पहुंची हालांकि अब यहां शराब भी नहीं बिक रहा है। पुलिस को अब वहां से खाली हाथ लाैटना पड़ेगा

सिर्फ 4 किमी में पुलिस थाना कोमाखान

हमने एसडीओपी से बात किया 5 बजकर 57 मिनट में,

1 घंटे  35 मिनट तक पुलिस नहीं पहुंची थी।

http://तुला राशि के जातक रहे सावधान, मकर राशि के जातक का दिन अच्छा होने का संकेत

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button