शोषण और नियमितीकरण के लिए छग के समस्त विद्युत सविंदा कर्मियों के द्वारा 1 दिन का सांकेतिक काम बंद सफल रहा

रायपुर। पूरे छत्तीसगढ़ में आज विद्युत संविदा कर्मचारियों के द्वारा सांकेतिक काम बंद हड़ताल किया गया जिसके अंतर्गत छग के समस्त संविदा कर्मचारियों के द्वारा काम बंद धरना अपने अपने क्षेत्रों में किया गया। हमारे साथी भाई जो हमारे बीच नहीं रहे उनकी आत्मा की शांति के लिए 2 मिनट का मौन व्रत किया गया नियमितीकरण की मांग को लेकर समस्त संविदा कर्मी प्रबंधन के खिलाफ सांकेतिक काम बंद हड़ताल किया। बिजली बोर्ड में नियमित कर्मचारियों की कमी के कारण बोर्ड का सारा काम संविदा कर्मचारियों के द्वारा किया जा रहा है ऐसे में आए दिन संविदा कर्मचारियों के ऊपर घातक और आधातक दुर्घटनाएं हो रही है,

http://सीपत एनटीपीसी प्रबंधन को भू-विस्थापित व हिंसा पीड़ित परिवार को नौकरी व मुआवजा दिलाने लिखा पत्र

जिसमे 50 से ऊपर दुर्घटनाये हो चुकी है और 18 लोगों की दुर्घटना से एवं 3 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो चुकी है। जिसकी जिम्मेदारी बोर्ड के अधिकारियों के द्वारा उस कर्मचारी पर ही कर दी जाती है जिसकी दुर्घटना हुई है ऐसे में संविदा कर्मचारी को भारी दुखों का सामना करना पड़ रहा है। दुर्घटनाग्रस्त कर्मचारी को ना मेडिकल सुविधा दिया जा रहा है ना कंपनी के तरफ से अन्य सुविधा विभाग में नियमित कर्मचारियों की रिटायरमेंट से उनकी पद रिक्त पड़ी हुई हैं जिन पर संविदा कर्मचारियों ने संविदा कर्मियों को नियमित कर रिक्त पद पूर्ति करने की मांग की।

अपने ऊपर हो रहे शोषण और अत्याचार के विरोध में संविदा कर्मचारियों के द्वारा आज सांकेतिक काम बंद हड़ताल किया गया और एक दिन का अनुपस्थिति दर्ज करायाआने वाले समय में अगर प्रबंधन संविदा कर्मचारियों को नियमित नहीं करती है तो अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी भी दी गई अगर अनिश्चितकालीन आंदोलन होती है तो सारी जवाबदेही कंपनी प्रबंधन की होगी।