ज्योतिष/धर्म/व्रत/त्येाहारमेरा गांव मेरा शहरसावन का महीना

आज से श्रावण मास, वृष, मिथुन, कर्क, मीन राशियों पर भोलेशंकर रहेंगे प्रसन्न

14 जुलाई 2022 गुरुवार से श्रावण महीने का पवित्र माह आरंभ हो रहा है। इस पवित्रमाह में भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने एवं आशीर्वाद का माह है।

14 जुलाई 2022 गुरुवार से श्रावण महीने का पवित्र माह आरंभ हो रहा है। भोलेशंकर की इस माह मन से पूजा अर्चना करने से आप पर कृपा बरसाते हैं।  ज्योतिष गणना के मुताबिक, इस माह में तीन गुरुवार एवं तीन शुक्रवार पड़ रहा है। इसलिए ग्रहें के लिहाज में महत्वपूर्ण रहने वाला है। श्रावण शुक्ल कृष्ण पक्ष प्रतिपदा का प्रारंभ 13 जुलाई 2022 दिन बुधवार को रात में 12:06 के बाद से प्रांरभ हो जाएगा लेकिन, उदय कालिक की स्थिति के आधार पर देखा जाए तो गुरुवार को ही सूर्योदय के साथ ही सावन का पवित्र माह प्रारंभ होगा। जानिए भोलेशंकर किन राशियों पर रहेंगे मेहरबान।

मेष: श्रावण मास में आपके पराक्रम में बढ़ोत्तरी होगी। कला के क्षेत्र में सम्मान मिलेगा। मेहनत में बढ़ात्तरी के साथ-साथ क्रोध पर काबू रखने की आवश्यकता होगी। एकाएक यात्रा खर्च या सेहत के वजह खर्च में बढ़ोत्तरी हो सकता है।

वृष:- भोलेशंकर वृष राशि के जातकों पर आमदनी बढ़ाने के क्षेत्र में कृपा बरसाएंगे। परिवार में नए कार्य प्रारंभ होंगे। यात्रा या अन्य खर्च में बढ़ोत्तरी। किस्मत का साथ प्राप्त होगा। सम्मान एवं पराक्रम में वृद्धि। आय के संसाधनों में बढ़ोत्तरी के साथ ही संतान पक्ष सफलता मिलेगी।

मिथुन: श्रावण मास में मिथुन राशि के जातकों का मनोबल उंचा रहेगा। सम्मान में बढ़ोत्तरी । राजकीय पद प्रतिष्ठा में बढ़ोत्तरी । दांपत्य जीवन में प्रगति की स्थिति गृह और वाहन सुख में बढ़ोत्तरी की स्थिति के साथ-साथ अचानक धनागम के संयोग बनेंगे।

कर्क : श्रावण मास में भेलेशंकर कर्क राशि पर कृपा बरसाएंगे, मान-सम्मान में बढ़ोत्तरी । परिश्रम में बढ़ोत्तरी। खर्च में बढ़ोत्तरी । दांपत्य जीवन में सकारात्मकता के साथ खर्च में बढ़ोत्तरी। भाग्य का साथ प्राप्त होगा। पराक्रम एवं सामाजिक पद प्रतिष्ठा में बढ़ोत्तरी का संयोग बनेगा।

यहां पढ़ें: सावन में लगाए यह पौधा… परिवार में आएगी खुशियां, मिलेगी किस्मत का साथ

सिंह: भोलेशंकर की कृपा से इस पवित्र माह में आय के साधनों में बढ़ोत्तरी  होगी। धन में बढ़ोत्तरी । संतान पक्ष से शुभ समाचार के साथ साथ थोड़ी सी चिंता होगी। पेट एवं पेशाब की समस्या । किस्मत का साथ प्राप्त होगा। पुराने रोगों से छूटकारा एवं शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगा।

कन्या: श्रावण के पवित्र मास में कन्या राशि को शिक्षा के क्षेत्र में प्रगति मिलेगी। संतान पक्ष से शुभ समाचार। आय के साधनों में थोड़ा सा अवरोध। सम्मान में बढ़ोत्तरी। परिश्रम में बढ़ोत्तरी। सुख के संसाधनों में बढ़ोत्तरी के साथ-साथ पेट की समस्या एवं वाणी में तीव्रता भी हो होगी।

तुला : भोलेशंक की कृपा से तुला राशि के जातकों को भवन एवं वाहन सुख में बढ़ोत्तरी। किस्मत का साथ प्राप्त होगा। आंतरिक रोग एवं शत्रु के कारण तनाव की स्थिति उत्पन्न होगा। दांपत्य जीवन में थोड़े से तनाव के साथ प्रगति की स्थिति। रोजाना आय में सामान्य तनाव के साथ प्रगति।

वृश्चिक : श्रावण मास में पराक्रम एवं सामाजिक पद प्रतिष्ठा में बढ़ोत्तरी। सेहत को लेकर थोड़ा सा तनाव। यात्रा खर्च में बढ़ोत्तरी। आय के साधनों में बढ़ोत्तरी। व्यापारिक गतिविधियों में बढ़ोत्तरी। पेट एवं पेशाब संबंधी समस्या के कारण मन दुखी रह सकता है।

यहां पढ़ें: सावन सोमवार को घर ले आएं इनमें से एक भी वस्तु, बदल जाएंगे आपके लक… कहते हैं कि इस महीने में की गई पूजा का कई गुना अधिक फल मिलता है

धनु : श्रावण मास में बोलचाल में सावधानी रखने की आवश्यकता है। धनागम के साधनों में बढ़ोत्तरी। परिवार में नए कार्य होगें। सम्मान में बढ़ोत्तरी की स्थिति उत्पन्न होगा। दांपत्य जीवन में तनाव के साथ प्रगति। सरकारी क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए भी वक्त अनुकूल पद बना रहेगा। संतान पक्ष को लेकर थोड़ा अलर्ट रहें।

मकर : श्रावण मास में मनोबल में बढ़ोत्तरी। मान-सम्मान में बढ़ोत्तरी। मन में डर का वातावरण रह सकता। क्रोध में काबू रखें। गृह एवं वाहन सुख में बढ़ोत्तरी। संतान पक्ष से थोड़ी चिंता या भय की स्थिति। मेहनत में बढ़ोत्तरी। सीने की तकलीफ को लेकर थोड़ा सतर्क रहें।

कुंभ : श्रावण मास में यात्रा का संयोग बना हुआ है। नए कारोबारिक संबंध स्थापित हो सकते हैं लेकिन, थोड़ा सा सतर्कता बरतें। यात्रा खर्च में बढ़ोत्तरी होगी। आय के साथ-साथ व्यय में भी अधिकता। संतान पक्ष से शुभ समाचार प्राप्त होगा। दांपत्य जीवन में भी शुभता एवं पराक्रम में बढ़ोत्तरी की स्थिति उत्पन्न होगा।

मीन : श्रावण के पवित्र माह में मनोबल में बढ़ोत्तरी। मानसिक चिंता में बढ़ोत्तरी। बोलचाल में संयमित रहे। धन में बढ़ोत्तरी  होगी। सुख के संसाधनों में बढ़ोत्तरी। माता-पिता के सुखों में बढ़ोत्तरी। आय के संसाधनों में सकारात्मक परिवर्तन देखने को मिल सकता है। पराक्रम में बढ़ोत्तरी। किस्मत का साथ इस अवधि में प्राप्त होगा।

Related Articles

Back to top button