गणपत्ति बप्पा मौरया आज, जानें शुभ मुहूर्त, गणपति पूजा विधि

0
277
webmorcha.com
गणपत्ति बप्पा मौरया आज, जानें शुभ मुहूर्त, गणपति पूजा विधि

आज से देशभर में गणपत्ति बप्पा मौरया का गुंज सुनाई देगा। आज से गणेशोत्सव शुरू होगा और 19 सितंबर को अनंत चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन किया जाएगा। ब्रह्म और रवियोग में गणपति स्थापना होगी। गणेश चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की विधि-विधान से पूजा की जाती है। गणेश चतुर्थी के दिन पूजन का शुभ मुहूर्त 12 बजकर 17 मिनट पर अभिजीत मुहूर्त से शुरू होगा और रात 10 बजे तक पूजन का शुभ समय रहेगा।

इस वर्ष गणेश चतुर्थी पर भद्रा का साया नहीं रहेगा। गणेश चतुर्थी के दिन 11 बजकर 09 मिनट से 10 बजकर 59 मिनट तक पाताल निवासिनी भद्रा रहेगी। शास्त्रों के अनुसार, पाताल निवासिनी भद्रा का योग शुभ माना जाता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, गणेश चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की कृपा से सुख-शांति और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

शुक्रवार: आज इन राशियों पर चंद्रमा के संचार के साथ गणपति बप्पा की बनी रहेगी कृपा

जानिए गणेश चतुर्थी शुभ मुहूर्त :

ब्रह्म मुहूर्त- सुबह 04:31 से सुबह 05:17

अभिजित मुहूर्त- सुबह 11:53 से दोपहर 12:43

विजय मुहूर्त- दोपहर 02:23 से दोपहर 03:12

गोधूलि मुहूर्त- शाम 06:20 से शाम 06:44

अमृत काल- 06:59 ए एम से 08:28 ए एम

रवि योग- सुबह 06:04 से दोपहर 12:58

पूजा- विधि

इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें।

स्नान करने के बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।

इस दिन गणेश जी की प्रतिमा की स्थापना की जाती है।

गणपित भगवान का गंगा जल से अभिषेक करें।

गणपति की प्रतिमा की स्थापना करें।

संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।

गणेश पूजा में सबसे पहले गणेश जी का प्रतीक चिह्न स्वस्तिक बनाया जाता है। गणेशजी प्रथम पूज्य देव हैं, इस कारण पूजन की शुरुआत में स्वस्तिक बनाने की परंपरा है।

भगवान गणेश को पुष्प अर्पित करें।

भगवान गणेश को दूर्वा घास भी अर्पित करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दूर्वा घास चढ़ाने से भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं।

भगवान गणेश को सिंदूर लगाएं।

भगवान गणेश का ध्यान करें।

गणेश जी को भोग भी लगाएं। आप गणेश जी को मोदक या लड्डूओं का भोग भी लगा सकते हैं।

भगवान गणेश की आरती जरूर करें।

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123