गरियाबंद : पच्चीस सौ रुपये में धान खरीदने वाला देश का पहला राज्य छत्तीसगढ़

सबको राशन देने और किसानो का धान खरीदने सरकार कृत संकल्पित

गरियाबंद। प्रदेश के खाद्य एवं संस्कृति मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत आज एक दिवसीय दौरे पर गरियाबंद विकासखण्ड अंतर्गत सवेंदनशील ग्राम पीपरछेड़ी और रसेला पहुंचे। यहां उन्होंने अलग-अलग जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह सरकार किसानों की सरकार है। यहां की 80 प्रतिशत जनता किसान है। उनके हित के लिए भूपेश सरकार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य  के 1 लाख करोड़ रुपये के बजट में 26 हजार करोड़ रुपये किसानों के खाते में  सीधे दे रहे है। सरकार बनते ही सबसे पहले कार्य कर्जा माफी और 2500 रुपये में धान खरीदी का किया। इससे अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि सरकार किसान हितैषी सरकार है।

उन्होंने कहा कि  हमारी सरकार सबको राशन दे रही है, चाहे  अमीर हो या गरीब, कोई भी व्यक्ति इस राज्य में भूखा न सोए यह हमारा संकल्प है। कोविड-19 के दौर में हमने सबको दवाई दी, सेवाएं दी और मुश्किल हालात में  सरकार जनता के साथ खड़ी थी। उन्होंने कहा कि आज जिले के सवेंदनशील क्षेत्रों में लोगों में उत्साह दिखाई दे रहा है। पहले जहां 7 प्रकार के वनोपजों की खरीदी होती थी, वही हमारी सरकार ने इसे बढ़ाकर 52 वनोपजों की खरीदी कर रही है। तेंदूपत्ता प्रति मानक बोरा 2500 रुपये से बढ़ाकर 4000 रुपये कर दिया गया है। गांव, गरीब और किसान हमारे विकास के केंद्र है।

इस अवसर पर उन्होंने गरियाबंद विकासखंड अंतर्गत ग्राम पीपरछेड़ी में स्वास्थ्य विभाग के 62 लाख रुपये की लागत से निर्मित 2 नग स्टाफ क्वार्टर को लोकार्पित किया। ग्राम रसेला में आदिम जाति सेवा सहकारी समिति अंतर्गत 12 लाख रुपये की लागत से निर्मित 200  मीट्रिक टन क्षमता वाले  गोदाम का लोकार्पण  भी किया गया। इस दौरान कलेक्टर श्री निलेश क्षीरसागर,, पुलिस अधीक्षक पारुल माथुर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष संजय नेताम,  जनक ध्रुव,  भाव सिंह साहू ,स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं ग्रामवासी  मौजूद रहे।

Back to top button