गरियाबंद: ठेकेदार, उपयंत्री और पेट्रोल पंप संचालक के खिलाफ 420 मामला दर्ज

गरियाबंद। बिजली विभाग में भ्रष्टाचार आम बात हो गई है। कुछ ऐसा ही एक मामला गरियाबंद जिले में आया है जहां विभाग ने अपने ही अफसर उपयंत्री अनिल नामदेव, बिजली ठेकेदार अभिमन्यू साहू महासमुंद और पट्रोल पंप संचालक जागेश्वर सिन्हा के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। बतादें इस फजीवाड़ें में मास्टरमांइड ठेकेदार ने गोहरापदर पट्रोल पंप संचालक तथा बिजली विभाग के उपयंत्री से  मिलीभगत कर बगैर विभाग में राशि जमा कराए ट्रांसफार्मर लगा दिया। विभाग ने तीनों के खिलाफ देवभोग थाना में लिखित शिकायत दिया इसके बाद 420 का मामला दर्ज कर विवेचना में लिया है। बतादें ठेकेदार अनिल नामदेव और बिजली विभाग उपयंत्री अनिल नामदेव के खिलाफ और कई गड़बड़ी के मामले सामने होने की बात कही जा रही है।

देवभोग पुलिस में दर्ज एफआईअर के अनुसार, गोहरापदर में खुले नए पैट्रोल पम्प तन्मय फियूल्स के संचालक जागेश्वर सिन्हा, अमलीपदर केंद्र के तत्कालीन कनिष्ठ यंत्री अनिल नामदेव तथा ठेकेदार अभिमन्यू साहू के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 एवं विद्दयुत अधिनियम 138(1)के तहत FIR दर्ज की गई है। महीनेभर पूर्व अनिल नामदेव का ट्रांसफर दूसरे जिले में हो गया है। सहायक अभियंता विनोद तिवारी ने मामले की शिकायत दर्ज कराई है।

ऐसे दिए फर्जीवाड़ा को अंजाम

इस गड़बड़ी का खुलासा तब हुआ जब सहायक अभियंता विनोद तिवारी 5 जनवरी को पंप का निरीक्षण करने गोहरापदर पहूचे थे। विनोद तिवारी ने अपने शिकायत पत्र में कहा गया है कि ट्रांसफार्मर स्थापित करने 4 लाख 36 हजार 475 रुपए विभाग के हेड में जमा होना था। प्रक्रिया के तहत विधिवत निविदा जारी करने के बाद काम होता पर नामदेव ने बोर्ड में पैसे जमा कराए बगैर ही काम करा लिया।

इधर, पंप संचालक जागेवश्वर सिन्हा रकम अनिल नामदेव को दिए जाने का दावा कर रहे है। विभागीय मद में जमा नही कराने को लेकर वे संबधित अफसर को जिम्मेदार ठहरा रहे है। साथ ही इसकी लिखित शिकायत थाने में करने की बात भी कह रहे है।

फर्जीवाड़ें का मास्टरमाइंड ठेकेदार के कई कारनामें

बताया जा रहा है मेसर्स साहू इंटरप्राईजेस नयापारा वार्ड 8 महालक्ष्मी निवास महासमुंद के ठेकेदार अभिमन्यू साहू जो पूर्व में बिजली विभाग में ही ऑपरेटर के पद पर कार्यरत था। जो अब अफसरों से मिलीभगत कर ठेकेदारी कर रहा है। जिसके कई गंभीर शिकायतें भी है। लेकिन विभाग के कर्ता-धर्ता के संरक्षण में वह बेखौफ फर्जीवाड़ा को अंजाम देकर विभाग में काम कर रहा है। 24 सितबंर 2020 को अधीक्षण यंत्री वृत महासमुंद के पीएल सिदार ने पत्र जारी कर  ठेकेदार अभिमन्यू साहू की निविदा राशि राजसात करने के साथ निविदा भरे जाने हेतू एक साल के लिए प्रतिबंधित किया था। बावजूइद अब महासमुंद छोड़ गरियाबंद जिले में बेखौफ ठेकेदारी कर रहा है।

महासमुंद, आरंग और Odisha जाने वालों को देना होगा Double Toll, इतनी होगी वसूली

Leave a Comment