गरियाबंद: पोते के बाद दादी को आदमखोर तेंदुए ने मार डाला

गरियाबंद। छत्तीसगढ़ के गरियाबंद (Gariaband) में आदमखोर तेंदुए (leopard) ने बुधवार देर शाम फिर हमला किया है। तेंदुआ  (leopard) एक बुजुर्ग महिला को उसके घर की बाड़ी से उठाकर ले गया। घर से करीब 200 मीटर दूर महिला का सिर और धड़ अलग-अलग मिले हैं। लोग महिला को ढूंढते हुए मौके पर पहुंचे तो तेंदुए  (leopard)  धड़ नोचकर खा रहा था। वह भीड़ को देख भाग निकला। तेंदुए  (leopard) ने करीब डेढ़ साल पहले इसी महिला के पोते को मार दिया था। घटना के बाद से लोगों में दहशत है।

जिला मुख्यालय से करीब 6 किमी दूर कुचेना गांव निवासी थनवारिन बाई (60) अपने घर की बाड़ी में थी। इसी दौरान शाम करीब 7.30 बजे तेंदुआ  (leopard) उसे उठाकर जंगल की ओर घसीट ले गया। थोड़ी देर बाद परिजन ने देखा तो थनवारिन नहीं दिखी। जमीन पर घसीटने के निशान देख परिजनों ने पुलिस और वन विभाग को सूचना दी। मौके पर पहुंची टीम ने तलाश शुरू की तो करीब 200 मीटर दूर महिला का सिर मिला।

तेंदुआ तीन लोगों पर हमला

वन विभाग और Police टीम के साथ ग्रामीण आगे बढ़े तो थोड़ी दूर पर पेड़ के नीचे महिला के धड़ को तेंदुआ नोच-नोचकर खा रहा था। लोगों की भीड़ आती देख तेंदुआ वहां धड़ को छोड़कर भाग निकला। इसके बाद वन विभाग की टीम ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला हॉस्पीटल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि कुछ महीनों में ही आसपास के गांवों में तेंदुआ तीन लोगों पर हमला कर चुका है। इसके चलते लोग काफी डरे हुए हैं।

घर के आंगन से उठाकर ले गया था बच्चे को

करीब डेढ़ साल पहले अगस्त 2020 में थनवारिन के 4 साल के पोते को तेंदुआ घर से उठाकर ले गया था। बच्चा घर के आंगन में खेल रहा था, तभी तेंदुए  (leopard) ने झपट्‌टा मारकर उसे उठा लिया और लेकर जंगल में भाग निकला। परिजन और ग्रामीण उसे छुड़ाने के लिए पीछे भागे। शोर सुनकर तेंदुआ बच्चे को छोड़कर भाग गया। इसके बाद परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंचे, लेकिन वहां डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया था।

CG: पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर का विवादित ट्वीट, सचिन राव के रायपुर आने पर लिखा, राहुल के कुक, चपरासी का भी दौरा कराएं

गांव से 300 मीटर दूर मिले थे 9 साल की बच्ची के अवशेष

दो माह पहले जिले के बमनी गांव निवासी 9 साल की रानी कमार को तेंदुआ  (leopard)  ले गया था। वह पड़ोस के अन्य बच्चों के साथ घर के बाहर खेल रही थी। दो दिन की तलाश के बाद घर से करीब 7 किमी दूर बच्ची का शव टुकड़ों में जंगल में मिला था। उसकी तलाश में 40 जवानों को लगाया गया था। जहां पर बच्ची के शव के अवशेष मिले, वहां तेंदुए के पग मार्क भी मिले थे।

वन विभाग बोला- पकड़ने के लिए पिंजरा लगाएंगे

तेंदुए  (leopard)  को पकड़ने की अब तक की तमाम कोशिशें बेकार हो चुकी है। वन विभाग पहले भी कई बार जंगल में पिंजरा लगा चुका है, लेकिन तेंदुआ कभी उनके जाल में नहीं फंसा। अब रेंज ऑफिसर पुष्पेंद्र साहू कहते हैं कि लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उन्हें देर शाम घर से बाहर निकले से फिलहाल मना कर रहे हैं। तेंदुए  (leopard)  को पकड़ने के लिए फिर से पिंजरा लगाएंगे। वहीं, वन विभाग के चौकीदार की ड्यूटी लगाई गई है। टीम उसे पकड़ने का प्रयास कर रही है।

Back to top button