कोमाखानमहासमुन्दमेरा गांव मेरा शहर

मिल रहा मात्र 7 मिनट पानी और सात हजार की आबादी, कैसे बुझेगी प्यास ?

पानी टंकी जर्जर, बुंदेली में सप्ताहभर से पेयजल संकट

भीषण गर्मी में फूट रहा जर्जर पाइप लाइन

नई पानी टंकी निर्माण के लिए विभाग भी गंभीर नहीं

बुंदेली।

  • पिथौरा विकासखंड के गौरव ग्राम बुंदेली में सप्ताहभर से पेयजल की समस्या बनी हुई है।
    तीस साल पहले बनी पानी टंकी अब बहुत जर्जर हो चुकी है।
  • यहां वार्डों में बिछाई गई पाइप लाइन भी जर्जर होने के कारण ठीक से पानी सप्लाई नही हो पा रहा है।
  • इस भीषण गर्मी में जगह-जगह पाइप फूट रहा है। जिससे और परेशानी बढ़ गई है।
  • सीएम और कलेक्टर जनदर्शन में लगा चुके हैं आवेदन  http://यहां पढ़े….

  • नई पानी टंकी और पाइप लाइन के लिए पीएचई विभाग को जानकारी दी गई है।
  • मुख्यमंत्री और कलेक्टर जनदर्शन में भी कई बार आवेदन दिया जा चुका है।
  • पिथौरा ब्लॉक के इस बडे़ गांव की आबादी करीब सात हजार है। जहां पर एक मात्र जर्जर पानी टंकी है।
  • लोगों को इस भीषण गर्मी में एक टाइम ठीक से पानी नहीं मिल पा रहा है।
  • महिलाओं का कहना है कि सुबह छः बजे नल खुलता है और 5-7 मिनट में बंद हो जाता है।
    कई महिलाओं को पानी ही नहीं मिल पाता।
  • पानी में कीड़े निकलने की शिकायत

  • ग्रामीणों ने पानी में छोटे-छोटे कीड़े निकलने की शिकायत की है।
  • वर्षों से जर्जर पानी टंकी की साफ-सफाई भी नहीं की गई है।
  • कुछ दिनों पहले पीएचई विभाग के अधिकारयों ने जर्जर पानी का निरीक्षण कर जल्द ही नई पानी टंकी निर्माण की स्वीकृति के लिए प्रांकलन बनाकर भेजने कहा गया था।
  • उसके बाद आज सात माह गुजर जाने के बाद कुछ कार्यवाही नहीं हुआ है।
  • इनका कहना है…   http://यहां पढ़े..

  • इस संबंध में ग्राम पंचायत बुंदेली के उपसरपंच पूनम मानिकपुरी का कहना है कि पीएचई विभाग के अधिकारियों से जर्जर पानी टंकी और जर्जर पाइप लाइन को बदलने लगातार मांग कर रहे हैं।
  • विभाग के अधिकारी पानी टंकी के लिए स्टीमेट बनाकर भेजने की बात कह रहे हैं। मैं नई पानी टंकी निर्माण के लिए लगातार प्रयासरत हूं।
  • इसी तरह पीएचई विभाग के उपअभियंता श्री ठाकुर का कहना है कि नई पानी टंकी के लिए लगभग 50 लाख का स्टीमेट बनाकर भेज दिए हैं। बुंदेली में बहुत जल्द ही पानी टंकी का निर्माण होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button