ज्योतिष/धर्म/व्रत/त्येाहार

देवी-देवताओं को नए बांस से निर्मित टोकरी में धान चढ़ाकर की अच्छी फसल की कामना

बारनवापारा। संजोरी बिजरी एवं ज्योति पूंज परमशक्ति पंच बुढ़ादेव पूजा का कार्यक्रम ग्राम पाड़ादाह में हुआ।

  • जय सिंघा ध्रुवा सेवा समिति के तत्वावधान में बैसाख पूर्णिमा पर गोंडी धर्म-संस्कृति प्रवर्तक मंगतू जगत ध्रुवा के निवास में यह कार्यक्रम गोंडी रीति-रिवाज एवं पारंपरिक रूप से हुआ।
  • इस अवसर पर गोंडीजन बडी़ संख्या में पूजन कार्यक्रम में शरीक होकर देवी-देताओं को नए बांस से निर्मित टोकरी में धान अर्पित किया और अच्छी फसल के लिए मत्था टेक कामना की।

बोनी के पूर्व चढ़ावे की मान्यता

  • इस पारंपरिक पूजा-विधान से ऐसी मान्यता रही है कि खरीब फसल की बोनी से पहले ईष्ट देवी-देवताओं को चढ़ावे से फसलों इत्यादि रोग-व्याधि मुक्त होने से पैदावार अच्छी होती है।
  • उच्च गुणवत्ता के नवीन बीज की भी प्राप्ति होती है। यह एक प्रकृति पूजा की सतत प्रक्रिया है।
  • प्रकृति धर्म पालन करते हुए यह समाज आज भी इस पूजा पाठ का पारंपरिक रूप से निरंतर निर्वहन करते रहे हैं।
  • इसके अलावा गांवों में आज भी ऐसी ही परंपराओं के पालन में अक्ति त्योहार (अक्षय तृतीया ) के दिन भी गांव स्थित देवस्थान में पलाश पड़े के पत्तों का दोना बनाकर धान व महुआ फूल चढा़कर पूजा-पाठ किया जाता है।

Related Articles

One Comment

  1. Astroindusoot, providing the best consultation to the customer for diminishing their problems regarding their health, love life, marriage life, career, through our best and experienced astrologers who are masters in their profession. Our company helps you in enjoying your life happily and free of tension.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button