हाईकोर्ट का फैसला : शिक्षाकर्मियों के लिए खुशखबरी, शिक्षक से प्रधानपाठक बने शिक्षकों की नियुक्ति वैध

0

बिलासपुर। हाईकोर्ट ने शिक्षाकर्मियों के लिए खुशखबरी दिया है। शिक्षाकर्मी से प्रधानपाठक बने शिक्षकों की नियुक्ति को वैध बताया है। इसके पहले हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने शिक्षाकर्मियों की प्रधानपाठक की नियुक्ति को गलत बताते हुए प्रदेश शासन के आदेश को निरस्त किया था। प्रदेश शासन द्वारा 2009-10 में प्राथमिक स्कूलों में प्रधानपाठक के रिक्त पदों को भरने के लिए नियम बनाया था।

बड़ी खबर :  दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली का एम्स में निधन हो गया।

यहां पढ़ें : http://भारतीय मौसम विभाग ने पांच दिन का किया शेड्यूल जारी, पढ़िए कहां होगी भारी बारिश

बतादें कि पूर्व में नियमों के अनुसार विभागीय परीक्षा देने और उत्रीर्ण होने के बाद प्रधानपाठक की कुर्सी मिली थी। लेकिन इन नियमों को लेकर रेगुलर (नियमित) शिक्षक हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। सिंगल बेंच ने नियमित शिक्षकों के याचिका पर फैसला सुनाते हुए प्रदेश शासन के आदेश को निरस्त कर दिया था। इसके बाद शिक्षाकर्मियों ने हाईकोर्ट की डबल बेंच में याचिका दायर की थी। शिक्षकर्मियों ने कहा था कि कहा कि प्राकृतिक न्याय का उल्लंघन कर मामले की सुनवाई की गई है। न्यायिक अनुशासन का मामला पर याचिका की सुनवाई की गई। चीफ जस्टिस पीआर रामचंद्र मेनन की अगुवाई में तीन जजों की फुल बेंच ने इस याचिका की सुनवाई करते हुए शिक्षाकर्मियों के पक्ष में फैसला सुनाते हुए सिंगल बेंच के आदेश को निरस्त कर दिया है। बेंच ने ने कहा कि विभागीय परीक्षा के मार्फत शिक्षाकर्मी से प्रधानपाठक बने शिक्षकों की नियुक्ति सही है।

यहां पढ़ें : http://अर्थव्यवस्था सुधार के लिए वित्तमंत्री सीतारमण ने किए 10 बड़े ऐलान

हमसे जुड़िए…

https://twitter.com/home

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

loading...

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500, 8871342716, 7804033123

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here