छत्तीसगढ़ में शराब प्रेमियों पर कोरोना टैक्स लगा सरकार ने कमाई 364 करोड़, देशी और अंग्रेजी शराब पर कोरोना टैक्स लगाने का मुद्दा सदन में गूंजा, इस राशि का खर्च स्वास्थ्य और शिक्षा पर होगा!

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में बुधवार को देशी और अंग्रेजी शराब पर कोरोना टैक्स लगाने का मुद्दा सदन में गूंजा. CM भूपेश बघेल सरकार के मंत्री के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष ने वॉकआउट कर दिया. प्रश्नकाल के दौरान BJP विधायक अजय चंद्राकर ने शराब पर कोरोना टैक्स पर सवाल करते हुए पूछा कि कितने प्रकार में कोरोना शुल्क लगाया गया? कोरोना शुल्क लगाने का कारण क्या है और अब तक कितने पैसे खर्च हुए? इस पर आबकारी मंत्री कवासी लखमा के स्थान पर मंत्री मो. अकबर ने जवाब दिया.

मंत्री अकबर ने जवाब देते हुए बताया कि- 2 मई 2020 के आदेश के तहत देशी मदिरा की फुटकर बिक्री पर प्रतिनग 10 रुपए की दर से 198 करोड़ 19 लाख 98 हजार रुपए राजस्व मिली। इसके साथ  15 मई 2020 के आदेश मुताबिक अंग्रेजी मदिरा की फुटकर बिक्री पर 10 फीसदी की दर से विशेष कोरोना शुल्क 166 करोड़ 55 लाख 38 हजार 800 रुपए छत्तीसगढ़ स्टेट मार्केटिंग करोपोरेशन के जरिए शासकीय खाते में जमा किये गए हैं।

यहां पढ़ें: मूलांक: जानिए अपने जन्म तारीख के अनुसार कैसा चल रहा आपका समय, 02, 05 और 08 मूलांक के लिए बढ़िया समय

इन पैसों का खर्च शिक्षा और स्वास्थ्य पर होगी

अर्थात दोनों रकम मिला दें तो 364 करोड़ 75 लाख रुपए से अधिक की कमाई छत्तीसगढ़ गर्वमेंट को शराब पर कोरोना टैक्स से हुई है।बात.. खर्च नहीं की गई है राशि मामले में BJP विधायक अजय चंद्राकर ने पूछा- इस राशि को किन किन मदों में खर्च किए जाने का प्रावधान है? इसके जवाब में मो. अकबर ने कहा- शिक्षा, स्वास्थ्य, अधोसंरचना जैसे कार्यों में इन मदों का खर्च किया जाना है. फिर अजय चंद्राकर ने पूछा- शिक्षा, स्वास्थ्य, अधोसंरचना में कितनी राशि खर्च हुई? इस पर मंत्री मो. अकबर ने बताया कि- अब तक राशि खर्च नहीं की गई है.

इसके लिए एक प्राधिकरण का गठन किया गया है. अनुशंसा के बाद इस राशि का खर्च होगा. इसके बाद विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया. विपक्ष के MLA अजय चंद्राकर ने कहा- कोरोना की राशि का दुरुपयोग हो रहा है. जनता पर लगाए गए टैक्स दुरुपयोग है.

हमसे जुड़िए

Followthislink WhatsApp

https://chat.whatsapp.com/GifNpp6MKWgCY9B5vi7xNe

Leave a Comment