सोना खरीदने का फिर आया शानदार मौका… 1000 रुपए हुआ सस्ता, चांदी के दाम भी 4500 तक कमी

0
35
webmorcha.com

इस सप्ताह सोने की कीमतों में तगड़ी गिरावट देखने को मिल रही है। एक सप्ताह में सोना 984 रुपए सस्ता होकर 45,586 रुपए प्रति 10 ग्राम के स्तर पर आ चुका है। इस सप्ताह सोना खरीदने के लिए बहुत ही शानदार साबित हुआ। महज एक हफ्ते में सोना लगभग 1 हजार रुपये सस्ता हुआ है। पिछले शुक्रवार को सोना (Gold)  46,570 रुपये प्रति 10 ग्राम (Gold price today) के स्तर पर बंद हुआ था, वहीं इस हफ्ते शुक्रवार को सोना 45,586 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ है। यानी सिर्फ एक हफ्ते में सोने की कीमतों में 984 रुपये यानी लगभग 1000 रुपये की तगड़ी गिरावट दर्ज की गई है।

चांदी की कीमतें भी गिरीं

यदि बात चांदी की करें तो उसकी कीमतों में भी इस हफ्ते तगड़ी गिरावट देखने को मिली है। पिछले हफ्ते शुक्रवार को चांदी 65,514 रुपये प्रति किलो पर बंद हुई थी और इस हफ्ते शुक्रवार को चांदी 61,045 रुपये प्रति किलो (Silver price today) के स्तर पर बंद हुई। यानी सिर्फ एक हफ्ते में चांदी में 4469 रुपये की गिरावट दर्ज की गई। अगर आप भी चांदी खरीदने की सोच रहे हैं तो ये सबसे अच्छा मौका है।

10 हजार रुपये से भी अधिक सस्ता हुआ सोना

सोने की कीमतों में भले ही एक हफ्ते में सिर्फ 1000 रुपये की गिरावट देखी जा रही है, लेकिन लंबी अवधि में सोना करीब 10 हजार रुपये से भी अधिक तक सस्ता हो चुका है। पिछले साल अगस्त में सोना 56,200 रुपये के उच्चतम स्तर तक जा पहुंचा था और अभी सोना 45,586 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर के करीब पहुंच गया है। यानी सोने की कीमत अब तक 10 हजार रुपये से भी अधिक गिर चुकी है।

बीते सालों में सोने ने दिया कितना रिटर्न?

अगर बात सोने की करें तो पिछले साल सोने ने 28 फीसदी का रिटर्न दिया है। उससे पिछले साल भी सोने का रिटर्न करीब 25 फीसदी रहा था। अगर आप लॉन्ग टर्म के लिए निवेश कर रहे हैं तो सोना अभी भी निवेश के लिए बेहद सुरक्षित और अच्छा विकल्प है, जिसमें शानदार रिटर्न मिलता है। पिछले सालों में सोने से मिला रिटर्न आपके सामने है, जो दिखाता है कि निवेश करने से फायदा ही है।

तालिबान की भारत को धमकी: Afghan की मदद का स्वागत, लेकिन अर्मी भेजने की गलती की तो ठीक नहीं होगा’

कोरोना काल में Gold  बना वरदान

सोना गहरे संकट में काम आने वाली संपत्ति है, मौजूदा कठिन वैश्विक परिस्थितियों में यह धारणा एक बार फिर सही साबित हो रही है। कोविड-19 महामारी और भू-राजनीतिक संकट के बीच सोना एक बार फिर रिकॉर्ड बना रहा है और अन्य संपत्तियों की तुलना में निवेशकों के लिए निवेश का बेहतर विकल्प साबित हुआ है। विश्लेषकों का मानना है कि उतार-चढ़ाव के बीच सोना अभी कम से कम एक-डेढ़ साल तक ऊंचे स्तर पर बना रहेगा। दिल्ली बुलियन एंड ज्वेलर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष विमल गोयल का मानना है कि कम एक साल तक सोना उच्चस्तर पर रही रहेगा। वह कहते हैं कि संकट के इस समय सोना निवेशकों के लिए ‘वरदान’ है। गोयल मानते हैं कि दिवाली के आसपास सोने में 10 से 15 प्रतिशत तक का उछाल आ सकता है।

मुसीबत के समय में हमेशा बढ़ी है सोने की चमक!

सोना हमेशा ही मुसीबत की घड़ी में खूब चमका है। 1979 में कई युद्ध हुए और उस साल सोना करीब 120 फीसदी उछला था। अभी हाल ही में 2014 में सीरिया पर अमेरिका का खतरा मंडरा रहा था तो भी सोने के दाम आसमान छूने लगे थे। हालांकि, बाद में यह अपने पुराने स्तर पर आ गया। जब ईरान से अमेरिका का तनाव बढ़ा या फिर जब चीन-अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर की स्थिति बनी, तब भी सोने की कीमत बढ़ी।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123