महासमुन्द

कार्यशाला का हुआ समापन, विशेषज्ञो ने कहा बच्चों को भयमुक्त वातावरण देना ही हमारा मकसद

महासमुंद। सर्किट हाउस में आयोजित दो दिवसीय चाइल्ड फ्रेडली कार्यशाला का शुक्रवार को समापन हुआ। इस अवसर पर अफसरों ने कहा बाल हित एवं बच्चों के प्रति संवदेनशील रहते हुए बच्चों के लिए भयमुक्त वातावरण निर्मित करना ही हमारा मुख्य उद़देश्य है।

कार्यशाला में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

  • कार्यशाला के दूसरे दिन बाल सुरक्षा विशेषज्ञ नई दिल्ली से राजमंगल प्रसाद, प्रबंधक एसोसिएशन फ़ॉर डेवलपमेंट नई दिल्ली से योगेश कुमार द्वारा किशोर न्याय अधिनियम, लैंगिक अपराधों से बालकों का सरंक्षण अधिनियम, बाल अपराधों की विवेचना में पुलिस अधिकारी द्वारा ध्यान दिए जाने वाले विषयों पर विस्तृत रूप से जानकारी दिया गया।
  • इसके साथ ही बाल कल्याण समिति से नेतराम डड़सेना, खेम राज चौधरी, नरेन्द्र रावत के द्वारा बाल अधिकार की सरंक्षण के संबंद्ध में उपस्थिति पुलिस अधिकारियों को विस्तृत जानकारी दिया गया।
  • पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने महासमुंद जिले में विगत वर्षों में चाइल्ड फ्रेंडली के लिए किए गए कार्यो एवं उसके दूरगामी परिणाम के बारे में चर्चा किया। उन्होंने उपस्थित अफसरों से अपेक्षा करते हुए कहा कि इस प्रकार की कार्यशाला के माध्यम से बाल हित एवं बच्चों के प्रति संवदेनशील रहते हुए बच्चों के लिए भयमुक्त वातावरण निर्मित कर कार्य किया जाना चाहिए।
  • कार्यशाला मे एसडीओपी विनोद कुमार मिंज समापन उद्बोधन देते हुए उपस्थित पुलिस अधिकारी एवं प्रशिक्षकों को धन्यवाद दिया। कार्यक्रम का संचालन बाल मित्र रूपेश तिवारी ने किया।
  • कार्यशाला में प्रमुख रूप से निरंजना शर्मा, सुनीता देवांगन, वाणी तिवारी, तारिणी चंद्राकर सदस्य जे जे बोर्ड,  टी दुर्गा राव, वन स्टॉप सेंटर, मौजूद थे।

यहां पर यह भी पढ़िए http://चाइल्ड फ्रेडली की ओर कदम

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button