टूट गई जग्गा-कालिया की जोड़ी, सिर से जुड़े जुड़वा भाइयों में से एक की मौत

0

ओडिशा| भुवनेश्वर: तीन साल पहले हुई देश की पहली Craniopagus Surgery के बाद अलग हुए दो जुड़वा भाइयों में से एक की मौत हो गई है.
ओडिशा के कटक स्थित सरकारी अस्पताल श्रीराम चंद्र भांजा मेडिकल कॉलेज एंड मेडिकल Hospital के डॉक्टर से मिली जानकारी के मुताबिक, जुड़वा भाइयों में से एक कालिया ने बुधवार को अंतिम सांस ली. बताया जा रहा है कि कालिया की तबियत बीते एक हफ्ते से लगातार बिगड़ रही थी.
साल 2017, महीना अक्टूबर. देश की राजधानी दिल्ली के एम्स (AIIMS) में एक सर्जरी हुई. इस सर्जरी में सिर के जरिए जुड़े दो भाइयों कालिया और जग्गा को अलग किया गया था.
अब छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से खरीदी जायेगी धान, वही 7 दिन तक वेलिड होंगे टोकन
ये दोनों भाई क्रैनियोपैगस नाम की परेशानी से जूझ रहे थे. कहा जा रहा था कि यह देश की पहली क्रैनियोपैगस सर्जरी (First Craniopagus Surgery) थी. यह ऑपरेशन दो साल तक चले इलाज और निगरानी के बाद किया गया था. दोनों भाइयों को अलग करने के प्रयासों में दो बड़ी सर्जरी शामिल थीं.
25 घंटों तक चली पहली सर्जरी 28 अगस्त 2017 को की गई. वहीं, दूसरे चरह का सर्जिकल ऑपरेशन 25 अक्टूबर 2017 को किया गया. जग्गा और कालिया का जन्म उड़ीसा के कंधमल जिले में हुआ था.
एससीबी Hospital के डॉक्टर भुवननंदा महाराणा ने बताया कि कालिया का ट्रॉमा आईसीयू में इलाज चल रहा था. उन्होंने बताया कि कालिया की मौत सेप्टिसेमिया और शॉक की वजह से हो गई.

डॉक्टर की तरफ से जारी बयान में कहा गया ‘उसकी हालत बीते 7-8 दिनों से बिगड़ती जा रही थी और आज ज्यादा खराब हो गई. डॉक्टरों के पूरी कोशिशों के बावजूद उसे नहीं बचा पाए. 14 डॉक्टरों की टीम उसका इलाज कर रही थी.’

सितंबर 2019 को दोनों भाइयों को कटक के एससीबी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. सर्जरी के बाद जग्गा की हालत में काफी तेजी से सुधार हुआ था,
लेकिन कालिया के तमाम स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ा था. खास बात है कि जब दोनों भाइयोंको कटक लाया गया था,
20 साल पूरे होने पर Honda ने लॉन्च किया Activa 6G का नया मॉडल, जानिए कैसे अलग है ये Regular scooter से?

तो इन्हें देखने के लिए Hospital में लोगों का जमावड़ा लग गया था. आलम यह था कि लोगों को काबू करने के लिए बैरिकेडिंग की नौबत आ गई थी.