काबुल हमले: 12 US कमांडो सहित 80 की मौत, गुस्से से लाल हुए अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन, कहा- ‘खोज-खोजकर मारेंगे’

0
117
webmorcha.com
बाइडेन

काबुल। काबुल हमले: 12 US कमांडो सहित 80 की मौत, गुस्से से लाल हुए अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन, कहा- ‘खोज-खोजकर मारेंगे’ अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Karzai International Airport) के ठीक सामने गुरुवार शाम दो फिदायीन हमले हुए। अमेरिकी अखबार ‘वॉल स्ट्रीट जर्नल’ के अनुसार,  अब तक 80 लोग मारे जा चुके हैं और 200 से अधिक जख्मी हैं। काबुल एयरपोर्ट (Kabul Airport) पर हुए आतंकी हमले के बाद अमेरिका (America) बेहद गुस्से में है.

राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने हमले के लिए जिम्मेदार इस्लामिक स्टेट (ISIS) को अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है. अपने सैनिकों और आम अफगानियों की मौत पर भावुक हुए बाइडेन ने कहा कि ISIS को इसकी कीमत चुकानी होगी. हम इस जख्म को भूलेंगे नहीं. हम एक-एक आतंकी को खोजकर मौत के घाट उतारेंगे.

इन मौतों की कीमत चुकानी होगी’

बाइडेन ने ISIS के लिए कहा, ‘हम माफ नहीं करेंगे. हम इस जख्म को भूलेंगे नहीं. हम खोजेंगे, शिकार करेंगे और उन्हें इन मौतों की कीमत चुकानी होगी’. राष्ट्रपति ने हमले को अफगानिस्तान में अमेरिका का सबसे बुरा दिन करार देते हुए कहा कि निर्दोष लोगों की जान लेने वालों को किसी भी सूरत में बक्शा नहीं जाएगा. बता दें कि काबुल एयरपोर्ट पर अभी भी अमेरिकी और ब्रिटिश सैनिक मौजूद हैं. 31 तालिबान ने रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा करने के लिए 31 अगस्त की डेडलाइन निर्धारित की है. उसका कहना है कि यदि विदेशी सैनिक 31 तक देश छोड़कर नहीं गए, तो अच्छा नहीं होगा.

CG: राजनीतिक ड्रामा जारी… दिल्ली गए 35 MLA, सीएम भूपेश भी जाएंगे, राहुल गांधी के साथ फिर होगी बैठक

रशियन मीडिया के मुताबिक, आतंकी संगठन ISIS ने काबुल एयरपोर्ट पर हमले की जिम्मेदारी ली है। उसने फिदायीन हमलावर का फोटो भी जारी किया है।

वाइस प्रेसिडेंट कमला हैरिस ने न्यूसॉम में रैली रद्द की। वॉशिंगटन लौट रही हैं। पेंटागन ने कहा- हमलावरों की पहचान की जा रही है। अमेरिका कार्रवाई के लिए आजाद है।

ब्रिटेन और अमेरिका ने कहा है कि काबुल धमाकों के बाद भी लोगों को एयरलिफ्ट करने का काम जारी रखेंगे। भारत ने ब्लास्ट की घटना की निंदा की है।

जर्मनी ने अब और लोगों के निकालने पर रोक लगा दी है। हालांकि, ब्लास्ट में घायल लोगों के लिए उसने अपना एक इमरजेंसी प्लेन एयरपोर्ट पर लगा रखा है।

तालिबान ने तुर्की के हैबर्टर्क टीवी को दिए इंटरव्यू में कहा है कि विदेशी सेना तय समय में काबुल छोड़ दे। हम अब और आतंकी हमले नहीं देखना चाहते।

काबुल हवाई अड्डे के पास हमले के बाद ब्रिटेन ने एयरलाइंस को अफगानिस्तान के ऊपर 25,000 फीट से नीचे उड़ान भरने से बचने का निर्देश दिया है।

देर रात अमेरिकी राष्ट्रपति प्रेस कांफ्रेंस कर बोले – हमला करने वालों को छोड़ेंगे नहीं

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल एयरपोर्ट हमले की निंदा करते हुए कहा कि सैनिकों की मौत बेहद दुखद है, दूसरों की जान बचाने में अमेरिकी सैनिकों का बलिदान हम कभी भुलेंगे नहीं और ना ही माफ करेंगे। हम आतंकियों को ढूंढकर मारेंगे । सैनिकों के परिवार के साथ हमारी संवेदनाएं हैं। हम अफगानिस्तान से अमेरिकी नागरिकों को बचाएंगे और अपने अफगान सहयोगियों को बाहर निकालेंगे, हमारा मिशन जारी रहेगा, जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त फौज भी भेजेंगे।

तालिबान ने भी आतंकी हमला बताया

तालिबान ने अब तक 15 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। इसमें महिलाएं और बच्चे शामिल हैं। तालिबान ने इसे आतंकी हमला बताया है। एयरपोर्ट पर एक शख्स ने बताया कि उसकी गोद में ही उसके बच्चे की मौत हो गई।

एयरपोर्ट से लगा नाला लाशों और घायलों से पटा

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि एयरपोर्ट से लगे नाले में लाशों और घायलों का ढेर लगा है। यहां पानी में शव पड़े हुए हैं। लोग अपनों को ढूंढ़ रहे हैं। एक दिन पहले ही इस नाले का वीडियो सामने आया था, जिसमें लोगों का हुजूम था। लोग एयरपोर्ट के अंदर जाने के लिए नाले में खड़े थे।