कोविड 19 की वैक्सीन इस बीमारी से होने वाली मृत्यु को रोकने में शत प्रतिशत प्रभावी -डाॅ स्मित श्रीवास्तव

रायपुर। डॉ स्मित श्रीवास्तव, विभागाध्यक्ष काॅर्डियोलाॅजी एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट मेडिकल कालेज रायपुर के अनुसार कोविड 19 की वैक्सीन इस बीमारी से होने वाली मृत्यु को रोकने में शत प्रतिशत प्रभावी है। इसे लगाने के बाद यदि व्यक्ति को संक्रमण होता है तो भी वह गंभीर प्रकार का नही होगा। उन्होने कहा कि .उच्च जोखिम वाले समूह यानि 45 वर्ष से अधिक आयु की आबादी का टीकाकरण करने से मृत्यु दर में बहुत कमी हो जाएगी, क्योंकि वर्तमान में, यह समूह लगभग 90 प्रतिशत रोगियों का निर्माण करता है जो इस बीमारी से मृत्यु के शिकार हैं। इसलिए इन आयु वर्ग के लोगों को अवश्य टीका लगाना चाहिए।

http://नवा रायपुर में फूटा कोरोना बम, 4 दिन में 37 कर्मचारी कोरोना संक्रमित

डाॅ श्रीवास्तव ने कहा कि पूर्व में कोविड संक्रमण वाले लोगों को ठीक होने के 8-12 सप्ताह के बाद टीका लगवाना चाहिए। यदि किसी व्यक्ति ने कोविड -19 संक्रमण के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी प्राप्त की है, उसे टीका लेने से पहले 8-12 सप्ताह तक इंतजार करना चाहिए। उच्च रक्तचाप, मधुमेह, गुर्दे की विफलता और हृदय रोग ,जो बाईपास, पोस्ट-एंजियोग्राफी और डायलिसिस से गुजर चुके हैं, के रोगियों में वैक्सीन सुरक्षित है। ’ब्लड थिनर जैसे वॉर्फरिन या नए एंटी-कोअगुलेशन एजेंट्स’ के मरीजों को इंजेक्शन साइट पर सूजन का एक छोटा जोखिम होता है। जो रोगी इन नए एजेंटों पर हैं वे अपनी सुबह की खुराक को छोड़ सकते हैं,

टीका ले सकते हैं और अगली नियमित खुराक जारी रख सकते हैं। स्ट्रोक, पार्किंसंस डिजीज, डिमेंशिया जैसी न्यूरोलॉजिकल जटिलताओं वाले मरीजों को वैक्सीन लेना चाहिए क्योंकि यह उनके लिए सुरक्षित है। किसी भी प्रकार के इम्युनोसप्रेसेन्ट (यानी अंग प्रत्यारोपण से गुजरने वाले मरीज) मरीज सुरक्षित रूप से वैक्सीन ले सकते हैं। हालांकि, प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पूरी नहीं हो सकती है। नामांकन करने से पहले अपने चिकित्सक से जाँच करानी चाहिए। उन्होने कहा कि यह टीका नपुंसकता का कारण नही बनता है और न हीे किसी वैक्सीन से किसी व्यक्ति का डीएनए बदल सकता है। यह वैज्ञानिक तथ्य नही है।

http://अंतिम, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट हैंग, SMS के जरिए ऐसे करें पैन कार्ड लिंक

कैंसर वाले और कीमोथेरेपी से गुजरने वाले मरीजों को अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए और कीमोथेरेपी चक्रों के बीच टीकाकरण के लिए एक उपयुक्त समय की तलाश करनी चाहिए। आदर्श रूप से, रोगी को टीके लेने के लिए कम से कम 4 सप्ताह बाद कीमोथेरेपी का इंतजार करना चाहिए। टीकाकरण के बाद बुखार, शरीर में दर्द, चक्कर आना, सिरदर्द सामान्य लक्षण हैं। यदि आवश्यक हो तो पैरासिटामोल को टीकाकरण के बाद लिया जा सकता है, और अधिकांश लक्षणों को अच्छी तरह से नियंत्रित किया जा सकता है।

Leave a Comment