महासमुन्द

महासमुंंद में आंदोलन कर रहे 27 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को फिर किया बर्खास्त 

महासमुंद। महिला एवं बाल विकास विभाग, महासमुंद के जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि जिले में अनाधिकृत रूप से हड़ताल कर रहे 27 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया है। यह कार्रवाई संबंधित जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं नगरीय निकाय के मुख्य नगर पालिका अधिकारी द्वारा किया गया है।
महासमुंद जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाले 19 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं इनमें आंगनबाड़ी केन्द्र पटेवा क्रमांक 1 के केवरा ध्रुव, लभराकला क्रमांक 1 के  मिथलेश दीवान, खट्टी क्रमांक 1 के  मुन्नी चंद्राकर, रामखेड़ा क्रमांक 1 के  नीलम अग्रवाल, झालखम्हरिया क्रमांक 2 के  कल्याणी सोनवारी, कोसरंगी क्रमांक 1 के  सोहद्रा टोण्ड्रे, घोड़ारी क्रमांक 1 के प्रेमलता पटेल, घोड़ारी क्रमांक 2 के  निर्मला बंजारे, घोड़ारी क्रमांक 3 के  शांति बघेल, मुढ़ैना क्रमांक 1 के  उषा सिन्हा, मुढ़ैना क्रमांक 2 के  भगवंतिन, छिलपावन क्रमांक 2 के शैलेन्द्री पटेल, तुरेंगा क्रमांक 1 के  कुमारी लोधी, लभरा खुर्द क्रमांक 1 के गंगा कन्नौजे, लभरा खुर्द क्रमांक 2 के यशोदा साहू, कनेकेरा क्रमांक 1 के संतोषी दीवान, धनसुली क्रमांक 1 के  मनोरमा दुबे, धनसुली क्रमांक 2 के  शैल साहू एवं आंगनबाड़ी केन्द्र शेर क्रमांक 1 के  पुष्पा साहू को बर्खास्त किया गया है।
इसी प्रकार नगरीय निकाय बसना के 3 आंगनबाड़ी कार्यक्रर्ता इनमें वार्ड क्रमांक 4 बसना के  प्रमोदिनी, वार्ड क्रमांक 6 के सरमून खान एवं वार्ड क्रमांक 14 के कावेरी को बर्खास्त किया गया है। वहीं सरायपाली नगरीय निकाय के 5 आंगनबाड़ी कार्यक्रर्ता इनमें वार्ड क्रमांक 1 ब के श्रीमती माधुरी नंद, वार्ड क्रमांक 4 के श्रीमती नीलिमा भोई, वार्ड क्रमांक 13 के श्रीमती रंजिता कानूनगो, वार्ड क्रमांक 8 अ के  श्वेता सागर एवं वार्ड क्रमांक 8 के  मंजुलिका प्रधान को बर्खास्त किया गया है। उल्लेखनीय है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं को हड़ताल में सम्मिलित ना होने के लिए अंतिम सूचना पत्र जारी किया गया था और कार्य पर वापस लौटने के निर्देश दिए गए थे। हड़ताल के कारण आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से हितग्राहियों को दी जाने वाले सेवाएं प्रभावित हो रही थी तथा बच्चों के भोजन के अधिकार का उल्लघंन हो रहा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button