राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के अंतर्गत 01 सितम्बर से जिले में हितग्राही परिवार के मुखियाओं से आवेदन लेना शुरू

0
70

महासमुन्द। राज्य शासन की नई महत्वाकांक्षी योजना राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के अंतर्गत 01 सितम्बर से जिले में हितग्राही परिवार के मुखियाओं से आवेदन लेना शुरू हुआ । ज़िले में चार दिन में (4 सितम्बर) तक 15924 आवेदन आए। यह आवेदन जिले के सभी ग्राम पंचायत कार्यालयों में कार्यालयीन समय में लिए जा रहें हैं। डिप्टी कलेक्टर एवं नोडल अधिकारी डॉ.नेहा कपूर ने बताया कि ज़िले में सर्वाधिक आवेदन महासमुंद की ग्राम पंचायत कार्यालयों में 3964 हितग्राहियों ने आवेदन किए। वही सरायपाली पंचायतों में 3780 आवेदन, पिथौरा में 3283,बसना में 3766 हितग्राहियों से निर्धारित प्रपत्र में आवेदन मिले। वही बागबाहरा ब्लॉक की ग्राम पंचायतों में 2131 आवेदन प्राप्त हुए । सभी आवेदनों की उसी दिन कम्प्यूटरमें एंट्री की जा रही है।

http://संसदीय सचिव के जन्मदिन पर कहीं लड्डू से तौलकर तो कहीं कंधे पर उठाकर किया स्वागत

इसके लिए अलग से कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी गयी है।ताकि समय पर काम होता रहे। हितग्राहियों को आवेदन जमा करने की पावती भी दी जा रही है। जो हितग्राही आवेदन भरने में सक्षम नही है उनकी कर्मचारी मदद कर रहे है। निर्धारित प्रपत्र ग्राम पंचायत कार्यालय से नि:शुल्क दिया जा रहा है ।ज़िले के क़रीबन 63000 ग्रामीण परिवारों को इस योजना से फ़ायदा मिलेगा। फ़ायदा इसी वित्तीय वर्ष से मिलेगा। पात्र पाए गए हितग्राहियों को सालाना 6000 रुपए सीधे उनके बैंक खाते में जाएँगे । यह योजना उन छत्तीसगढ़ के मूल निवासी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर के लिए है जिनके पास कोई खेती की ज़मीन नही है।