महासमुन्द। सर्वोच्च प्राथमिकता वाले कार्यों को पहले पूरा करें: कलेक्टर

महासमुन्द। कलेक्टर डोमन सिंह ने आज साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में जिला अधिकारियों को कहा कि सर्वोच्च प्राथमिकता वाले विभिन्न योजनाओं के कार्याें को पहले प्राथमिकता के आधार पर पूरा करें। उन्होंने लोक सेवा गारंटी अधिनियम, वनाधिकार मान्यता पत्र, जल संरक्षण के कार्य, पेयजल, वृक्षारोपण की योजना, जिला खनिज न्यास निधि, लोक सेवा केन्द्रों की प्रकरणांे की स्थिति, नरवा, गरवा, घुरवा अउ बाड़ी सहित अन्य राजस्व प्रकरणों के साथ विभिन्न विभागों की योजनाओं एवं प्रकरण की विस्तार से समीक्षा की।

http://बदला मौसम का मिजाज CG एमपी समेत यहां बारिश और बर्फबारी अलर्ट

कोरोना के बढ़ते मामलें को देखते हुए कोरोना टेस्टिंग में और तेजी लाने और पात्र लोगों को वैक्सीनेशन बढ़ाने पर जोर दिया। खासकर जिले के अन्दरूनी और ग्रामीण क्षेत्रों में खास ध्यान देना होगा। जिले में वैक्सीनेशन किए जा रह़े काम के लिए अधिकारी-कर्मचारियों को बधाई दी और कहा कि अभी और काम करने की जरूरत है। कलेक्टर ने जिले के सभी एसडीएम से कहा कि वे अपने क्षेत्र के ऐसे स्वास्थ्य और आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मीटिंग लें। जिन्होंने वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज नहीं लगवाई हैं और उन्हें लगवानें के लिए प्रेरित करें। इसके साथ ही अधिकारी-कर्मचारी के पात्र सदस्यों को भी वैक्सीन लगाने के लिए प्रेरित करें।  उन्होंने कहा कि आगामी त्यौहार होली,

चैत्र नवरात्रि, सामाजिक समारोह आदि में कम से कम लोगों की उपस्थिति सुनिश्चित करें और कोरोना गाईड लाईन का पालन कराएं। उन्होंने कहा कि त्यौहारों पर मिठाई बेचनें वाले, गुपचुप ठेलें वालें आदि के कोरोना टेस्टिंग अवश्य कराएं। कलेक्टर सिंह ने लगातार बढ़ रही गर्मी को देखते हुए पहले से ही लू से बचाव और उसके प्रबंधन के इंतजाम व उपचार के व्यापक प्रबंधन करने के निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए। उन्होंने जिला अस्पताल सहित उप स्वास्थ्य केन्द्रों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में दवाईयों का पर्याप्त स्टाॅक रखने के साथ ही लू से बचने के लिए लोगों को जागरूक करने कहा। कलेक्टर ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारी को जिले में स्थापित हैण्डपम्प और नल-जल योजनाओं की स्थिति की जानकारी लेते हुए

अब तक पेयजल के निराकरण के लिए किए गए कार्यों की भी जानकारी ली।  लोगों को पेयजल और निस्तारी जल की समस्या से निजात पहुंचाने के लिए नगर पालिका अधिकारी को आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पूर्व अनुभवों को देखते हुए ऐसे इलाकों को पहले से ही चिन्हांकित कर दें। खासकर बसना और सरायपाली के कुछ इलाकों में जहां पेयजल का संकट गहराता हो। वहां समुचित व्यवस्था नलकूप खनन, निस्तारी के लिए तालाब भरना, ट्यूबवेल और हैण्डपम्प की मरम्मत इत्यादि कर ली जाए। लोगों को माॅस्क पहननें, दो गज की दूरी और समय-समय पर हाथ धोते रहने की सलाह दी। उन्होंने एसडीएम और मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद से कहा-

http://Chhattisgarh: शहर में 5 लाख के हीरे के साथ तस्कर Arrested, मुख़बिर की सूचना पर police ने पकड़ा पूछताछ जारी

कि वे अपने कोरोना गाईड लाईन का पालन नहीं करने वालों पर सख्ती करें और माॅस्क नहीं लगाने वालों पर दो सौ रूपए की चालानी कार्यवाही करें। कलेक्टर ने बारी-बारी से विभिन्न विभागों जिला पंचायत, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास, शिक्षा, कृषि, उद्यानिकी, पशु चिकित्सा आदि के लम्बित प्रकरणों और उनके निराकरण के संबंध में जानकारी ली और कहा कि प्राप्त प्रकरणों का समय-सीमा पर निराकरण करें। उन्होंने अनुकम्पा नियुक्ति संबंधी जानकारी भी ली। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ. रवि मित्तल, अपर कलेक्टर जोगेन्द्र कुमार नायक, एसडीएम महासमुन्द सुनील कुमार चन्द्रवंशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एन.के. मंडपे, डिप्टी कलेक्टर सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारीगण मौजूद थे।

Leave a Comment